UP Board Solutions for Class 12 Geography Chapter 8

UP Board Solutions for Class 12 Geography Chapter 8 Transport and Communication (परिवहन एवं संचार)

image

UP Board Solutions for Class 12 Geography Chapter 8

UP Board Class 12 Geography Chapter 8 Text Book Questions

UP Board Class 12 Geography Chapter 8 पाठ्यपुस्तक से अभ्यास प्रश्न

प्रश्न 1.
नीचे दिए गए चार विकल्पों में से सही उत्तर का चयन कीजिए
(i) पार महाद्वीपीय स्टुअर्ट महामार्ग किनके मध्य से गुजरता है
(क) डार्विन और मेलबोर्न
(ख) एडमंटन और एकॉरेज
(ग) बैंकूवर और सेंट जॉन नगर
(घ) चेगडू और ल्हासा।
उत्तर:
(क) डार्विन और मेलबोर्न।

(ii) किस देश में रेलमार्गों के जाल का सघनतम घनत्व पाया जाता है
(क) ब्राजील
(ख) कनाडा
(ग) संयुक्त राज्य अमेरिका
(घ) रूस।
उत्तर:
(ग) संयुक्त राज्य अमेरिका।

(iii) बृहद् ट्रंक मार्ग होकर जाता है
(क) भूमध्यसागर हिन्द महासागर से होकर
(ख) उत्तर अटलाण्टिक महासागर से होकर
(ग) दक्षिण अटलाण्टिक महासागर से होकर
(घ) उत्तर प्रशान्त महासागर से होकर।
उत्तर:
(ख) उत्तर अटलाण्टिक महासागर से होकर।

(iv) ‘बिग इंच’ पाइप लाइन के द्वारा परिवहित किया जाता है
(क) दूध
(ख) जल
(ग) तरल पेट्रोलियम गैस (LPG)
(घ) पेट्रोलियम।
उत्तर:
(घ) पेट्रोलियम।

(v) चैनल टनल जोड़ता है
(क) लन्दन-बर्लिन
(ख) बर्लिन-पेरिस
(ग) पेरिस-लन्दन
(घ) बार्सिलोना-बर्लिन।
उत्तर:
(ग) पेरिस-लन्दन।

 

प्रश्न 2.
निम्नलिखित प्रश्नों का उत्तर लगभग 30 शब्दों में दीजिए
(i) पर्वतों, मरुस्थलों तथा बाढ़ सम्भावित क्षेत्रों में स्थल परिवहन की क्या-क्या समस्याएँ हैं?
उत्तर:
सड़क मार्गों के निर्माण के लिए यह आवश्यक है कि भूमि समतल तथा ऊबड़-खाबड़ नहीं होनी चाहिए, लेकिन पर्वतीय और मरुस्थलीय क्षेत्रों में सड़क निर्माण की उपयुक्त दशाएँ नहीं मिलतीं; इसीलिए इन क्षेत्रों में इसके निर्माण की समस्या आ जाती है। बाढ़ प्रवण क्षेत्रों में भी सड़क निर्माण आर्थिक दृष्टि से उपयोगी नहीं है, क्योंकि प्रतिवर्ष आने वाली बाढ़ . सड़क तथा पुलों को बहाकर ले जाती है। इसी कारण इन क्षेत्रों में सड़क निर्माण की समस्या है।

(ii) पार महाद्वीपीय रेलमार्ग क्या होता है?
उत्तर:
महाद्वीप के आर-पार बनाए गए तथा इसके दो सिरों को जोड़ने वाले मार्गों को ‘पार महाद्वीपीय रेलमार्ग’ कहते हैं। ऐसे रेलमार्ग हैं-ट्रांस-साइबेरियन रेलमार्ग, कनाडियन पैसेफिक रेलमार्ग तथा ट्रांस-ऑस्ट्रेलियन रेलमार्ग।

(iii) जल परिवहन के क्या लाभ हैं?
उत्तर:
जल परिवहन के लाभ जल परिवहन के निम्नलिखित लाभ हैं

  • जल परिवहन में किसी प्रकार के मार्ग निर्माण की आवश्यकता नहीं होती है।
  • जल परिवहन यातायात का सस्ता माध्यम है।
  • जल परिवहन में एक साथ अधिक माल ढोया जा सकता है।
  • जल परिवहन के रखरखाव पर बहुत कम खर्च होता है।

प्रश्न 3.
नीचे दिए गए प्रश्नों के उत्तर 150 शब्दों से अधिक न दें
(i) “एक सुप्रबन्धित परिवहन प्रणाली में विभिन्न एक-दूसरे की सम्पूरक होती है।” इस कथन को स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
एक सुप्रबन्धित परिवहन प्रणाली में यातायात के सभी साधन एक-दूसरे के सम्पूरक होते हैं। सभी यातायात साधनों का उद्देश्य यात्रियों और माल का आवागमन करना है। सुप्रबन्धित परिवहन प्रणाली की सार्थकता परिवहित की जाने वाली वस्तुओं और सेवाओं के प्रकार, परिवहन की लागत और उपलब्ध परिवहन लागत पर निर्भर होती है। विभिन्न परिवहन के साधन इस प्रकार कार्य करते हैं

  • वस्तुओं का अन्तर्राष्ट्रीय व्यापार या वितरण भारवाही जलयानों द्वारा किया जाता है। .
  • कम दूरी और एक घर से दूसरे घर की सेवाएँ प्रदान करने के लिए सड़क परिवहन सस्ता एवं तीव्रगामी होता है।
  • किसी देश के आन्तरिक भाग में स्थूल पदार्थों के विशाल परिणाम को लम्बी दूरियों तक परिवहन करने के लिए रेल सबसे अनुकूल साधन है।
  • उच्च मूल्य वाली हल्की तथा नाशवान वस्तुओं का वायुमार्गों द्वारा परिवहन सर्वश्रेष्ठ होता है। अत: सुप्रबन्धित परिवहन तन्त्र में परिवहन के विभिन्न साधन एक-दूसरे के सम्पूरक होते हैं।

(ii) विश्व के वे कौन-से प्रमुख प्रदेश हैं जहाँ वायुमार्ग का सघन तन्त्र पाया जाता है?
उत्तर:
विश्व में सघन वायुमार्ग वाले क्षेत्र हैं

  • पश्चिमी यूरोप।
  • पूर्वी संयुक्त राज्य अमेरिका।
  • दक्षिण-पूर्वी एशिया।

संयुक्त राज्य अमेरिका अकेला ही विश्व के 60% वायु परिवहन का प्रयोग करता है। न्यूयॉर्क, लन्दन, पेरिस, एमस्टरडम, फ्रेंकफर्ट, रोम, बैंकॉक, मुम्बई, कराँची, नई दिल्ली, लॉस एंजिल्स आदि ऐसे केन्द्र हैं जहाँ से वायु परिवहन भिन्न देशों को जाता है अथवा इन केन्द्रों पर आता है।

(iii) वे कौन-सी विधाएँ हैं जिनके द्वारा साइबर स्पेस मनुष्यों के समकालीन आर्थिक और सामाजिक स्पेस की वृद्धि करेगा?
उत्तर:
साइबर स्पेस इण्टरनेट-साइबर स्पेस इलेक्ट्रॉनिक कम्प्यूटरराइज्ड स्पेस की दुनिया है। यह ‘वर्ल्ड वाइड वेबसाइट’ (www) जैसे इण्टरनेट द्वारा घेरा हुआ है। यह इलेक्ट्रॉनिक डिजीटल है जो कम्प्यूटर नेटवर्क द्वारा सूचना भेजने के लिए होता है जिसमें प्रेषक और प्राप्तकर्ता को कोई भौतिक गति नहीं करनी होती। साइबर स्पेस सभी स्थानों पर होता है। यह कार्यालय नाव, वायुयान तथा अन्य सभी स्थानों पर होता है।

प्रगति – इलेक्ट्रॉनिक नेटवर्क की गति जिस पर यह कार्य करता है असामान्य होती है जो मानव इतिहास में अद्वितीय है। सन् 1955 में इण्टरनेट के उपयोगकर्ता संख्या में 5 करोड़ थे जो सन् 2000 में 40 करोड़ और सन् 2010 में 200 करोड़ हैं। पिछले कुछ वर्षों में वैश्विक उपयोगकर्ताओं का संयुक्त राज्य अमेरिका से विकासशील देशों में स्थानान्तरण हुआ है। संयुक्त राज्य अमेरिका में उपयोगकर्ताओं का प्रतिशत अंश सन् 1995 में 66 प्रतिशत रह गया। अब विश्व के अधिकांश उपयोगकर्ता संयुक्त राज्य अमेरिका, ब्रिटेन, जर्मनी, जापान, चीन और भारत में हैं।

भविष्य – साइबर स्पेस समकालीन, आर्थिक और सामाजिक क्षेत्र में ई-मेल, ई-कॉमर्स लर्निंग आदि द्वारा परिवर्तन लाएँगी। फैक्स, टी०वी०, रेडियो के साथ इण्टरनेट प्रत्येक व्यक्ति की पहुँच में हो जाएगा। यह आधुनिक संचार प्रणाली है।

UP Board Class 12 Geography Chapter 8 Other Important Questions

UP Board Class 12 Geography Chapter 8 अन्य महत्वपूर्ण प्रश्नोत्तर

विस्तृत उत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
परिवहन से आप क्या समझते हैं? सड़क परिवहन के लाभों पर प्रकाश डालिए। अथवा सड़क परिवहन के गुण/महत्त्व/उपयोगिता/लाभ का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
परिवहन का अर्थ-वस्तुओं और यात्रियों के एक स्थान से दूसरे स्थान पर लाने-ले जाने को ‘परिवहन’ कहते हैं।
सड़क परिवहन के महत्त्वपूर्ण लाभ निम्नलिखित हैं

  • सड़क परिवहन, रेल परिवहन की तुलना में सस्ता है। इसकी लागत, मरम्मत और देखभाल तुलनात्मक दृष्टि से कम है।
  • सड़कें उपभोक्ताओं के घर तक पहुँचती हैं। उत्पादक और व्यापारी, सड़क परिवहन को इसलिए पसन्द करते हैं कि इसमें माल को जगह-जगह उतारना नहीं पड़ता। कच्चा माल, मशीनें आदि सीधे कारखानों में और तैयार माल सीधे उपभोक्ताओं तक सुरक्षित पहुँच जाता है।
  • कम दूरी के लिए उत्तम है। व्यक्ति और सामान जल्दी पहुँच जाते हैं।
  • शीघ्र नष्ट होने वाली सब्जियों, फलों, दूध के लिए अत्यन्त उपयोगी है। ट्रक कृषि का आधार ही सड़कें हैं।
  • कहीं भी; कभी भी समय और स्थान की पाबन्दी नहीं। व्यक्ति और सामान कहीं से भी. किसी भी समय ढोया जा सकता है।
  • स्थायी व्यय नहीं रेलों की तरह स्टेशनों, प्लेटफार्मों, रेलमार्गों आदि के रखरखाव पर कर्मचारियों की अधिक संख्या में आवश्यकता नहीं पड़ती।
  • दुर्गम, तीव्रढाल वाले पहाड़ी क्षेत्र, बीहड़ों आदि में सड़कें बनाना और उपयोग में लाना कठिन, लेकिन सम्भव है।
  • पैकिंग आदि की औपचारिकता नहीं। फल-सब्जियाँ आदि सीधे ट्रकों में बिना पैकिंग के लाद दिए जाते हैं।

प्रश्न 2.
रेल परिवहन के गुणों व अवगुणों का वर्णन कीजिए। अथवा रेल परिवहन के गुण/लाभ/महत्त्व/उपयोगिता का विश्लेषण कीजिए।
उत्तर:
सड़क परिवहन के गुण/लाभ/महत्त्व/उपयोगिता रेल परिवहन के गुण/लाभ/महत्त्व/उपयोगिता निम्नलिखित हैं

  • रेल परिवहन लम्बी दूरियों के यात्रियों और सामान के लिए सस्ता साधन है।
  • लम्बी दूरियों के लिए यह तीव्रगामी परिवहन है।
  • वातानुकूलन, शायिका व्यवस्था और खान-पान की सुविधा से रेलयात्रा सुखद हो गई है।
  • भारी और बड़े परिमाण का सामान अधिक मात्रा में लम्बी दूरियों तक आसानी से ले जाया जाता है।
  • रेल कृषि उत्पादों को उपभोक्ताओं तक और कच्चे माल को कारखानों तक पहुँचाने में सुविधाजनक है।
  • शीघ्रनाशी वस्तुओं के परिवहन के लिए प्रशीतित डिब्बों का उपयोग किया जाता है।
  • रेलों द्वारा किसी क्षेत्र के आर्थिक विकास में काफी मदद मिलती है। रेल परिवहन के अवगुण/दोष/सीमाएँ/कमियों

रेल परिवहन के अवगुण/दोष/सीमाएँ कमियाँ निम्नलिखित हैं

  • रेलमार्गों, स्टेशनों, प्लेटफार्मों, डिब्बों आदि के बनाने और रख-रखाव के लिए भारी पूँजी और कर्मचारियों की आवश्यकता होती है।
  • पर्वतीय व मरुस्थलीय क्षेत्रों में रेलमार्गों का निर्माण करना और चालू रखना कठिन है।
  • अधिक वर्षा व हिमपात वाले क्षेत्रों में रेल परिवहन लगभग असम्भव है।
  • रेलमार्गों के विभिन्न गेजों के कारण रेल परिवहन में कठिनाई होती है और व्यय बढ़ता है।

प्रश्न 3.
अन्तःस्थलीय जलमार्ग किसे कहते हैं? अन्तःस्थलीय जलमार्गों के लिए आवश्यक दशाओं का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
अन्तःस्थलीय जलमार्ग-परिवहन के उपयोग में आने वाली नदियों, झीलों और नहरों को ‘अन्तःस्थलीय जलमार्ग’ कहा जाता है।
अन्तःस्थलीय जलमार्गों के लिए आवश्यक दशाएँ

  • नदियाँ सदानीरा अर्थात् पूरे वर्ष निरन्तर प्रवाह वाली होनी चाहिए। बरसाती नदियाँ जल परिवहन के अयोग्य होती हैं।
  • जलप्रपातों और क्षिप्रिकाओं वाली नदियों में जल परिवहन नहीं हो सकता।
  • नदियों, झीलों और नहरों का पानी शीत ऋतु में जमना नहीं चाहिए।
  • नदियों के मुहानों पर रेत, मिट्टी आदि जमा नहीं होनी चाहिए। इससे जल की गहराई कम हो जाती है।
  • अत्यधिक मोड़दार नदियों में परिवहन में अधिक समय लगता है।
  • नदियाँ बाढ़ के समय मार्ग बदलने वाली नहीं होनी चाहिए।

प्रश्न 4.
अन्तःस्थलीय जलमार्गों के गुणों व अवगुणों का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
अन्तःस्थलीय जलमार्गों के गुण
अन्तःस्थलीय जलमार्गों के गुण निम्नलिखित हैं

  • भारी और बड़े परिमाण वाले सामान का परिवहन सस्ता और आसान होता है। कोयला, विभिन्न अयस्क तथा भारी-भरकम निर्मित सामान जल परिवहन के लिए अधिक उपयुक्त हैं।
  • नदियाँ और झीलें प्राकृतिक मार्ग हैं। इनके बनाने और रख-रखाव पर व्यय नहीं करना पड़ता।
  • सघन और भारी वर्षा वाले वनों में नदियाँ ही परिवहन का अकेला साधन हैं।
  • इसमें दुर्घटनाओं का खतरा अपेक्षाकृत कम होता है।

अन्तःस्थलीय जलमार्गों के अवगुण
अन्त:स्थलीय जलमार्गों के अवगुण निम्नलिखित हैं

  • धीमी गति से समय की बर्बादी होती है।
  • शीघ्र खराब होने वाले फल-सब्जियों और दूध एवं उसके उत्पादों के परिवहन के लिए अनुपयुक्त है।
  • अधिकतर नदियाँ परिवहन की माँग वाले सघन जनसंख्या वाले क्षेत्रों से दूर बहती हैं अत: अनुपयोगी हैं।
  • मौसम के अनुसार नदियों के जल में कमी होने से परिवहन में बाधा आती है।
  • नदियों, नहरों और झीलों की गहराई बनाए रखने के लिए रेत, मिट्टी निकालने में व्यय होता है और . परिवहन बाधित होता है।

प्रश्न 5.
स्वेज नहर व पनामा नहर की तुलना कीजिए।
उत्तर:
स्वेज नहर व पनामा नहर की तुलना (अन्तर)
UP Board Solutions for Class 12 Geography Chapter 8 Transport and Communication 1

प्रश्न 6.
वायु परिवहन की विशेषताओं व दोषों का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
वायु परिवहन की विशेषताएँ (गुण/महत्त्व/लाभ/उपयोगिता) वायु परिवहन की प्रमुख विशेषताएँ निम्नलिखित हैं

  • वायुयान पूर्व-निर्धारित समय-सारणी के अनुसार उड़ान भरते हैं।
  • सुरक्षा कारणों से वायुयान विभिन्न देशों के ऊपर से निर्धारित गलियारों से ही गुजर सकते हैं।
  • लम्बी दूरी के लिए परिवहन का सबसे उपयुक्त साधन है।
  • यह परिवहन का सबसे तीव्रतम लेकिन महँगा साधन है।
  • हल्की, लेकिन कीमती और जल्दी खराब होने वाली वस्तुओं जैसे फूल, कुछ विशेष प्रकार के फल और सब्जियाँ, आभूषण, हीरे जवाहरात के परिवहन के लिए उपयुक्त है।
  • प्राकृतिक आपदाओं के समय कहीं भी राहत पहुँचाई जा सकती है।
  • दुर्गम क्षेत्रों में वायुयान परिवहन उपयुक्त है।

वायु परिवहन के दोष
वायु परिवहन के प्रमुख दोष निम्नलिखित हैं

  • वायु परिवहन महँगा परिवहन साधन है। इसका लाभ केवल सम्पन्न वर्ग ही ले सकता है।
  • छोटी/कम दूरियों के लिए वायु परिवहन उपयोगी नहीं है।
  • खराब मौसम में वायु परिवहन में बाधा आती है।
  • सस्ती व भारी वस्तुओं के परिवहन में यह उपयोगी नहीं है।
  • वायु दुर्घटनाएँ कई बार भयंकर रूप ले लेती हैं।

 

प्रश्न 7.
परिवहन का चयन कैसे किया जाए? व्याख्या कीजिए।
उत्तर:
परिवहन का चयन
परिवहन के प्रत्येक माध्यम का अपना महत्त्व होता है। किसी भी विधा की सार्थकता ढोई जाने वाली वस्तुओं और सेवाओं के प्रकार, परिवहन की लागत तथा उपलब्ध विधा पर निर्भर करती है।

  • स्थूल तथा भारी-भरकम सामानों का परिवहन आमतौर पर जलमार्गों द्वारा सस्ता पड़ता है।
  • अन्तर्राष्ट्रीय-स्तर पर वस्तुओं का परिवहन सामान्यत: समुद्री मालवाहक जहाजों द्वारा किया जाता है। जलमार्गों द्वारा परिवहन में पत्तनों से आन्तरिक गन्तव्यों तक माल पहुँचाने की कुछ सीमाएँ हैं तथा इस प्रकार का परिवहन धीमा होता है।
  • छोटी दूरियों के लिए सड़क परिवहन अपेक्षाकृत सस्ता पड़ता है और इसकी गति भी तेज होती है। इसके अलावा यह द्वार-से-द्वार तक भी सेवा प्रदान करता है।
  • लेकिन यदि किसी को बड़ी मात्रा में स्थूल सामान देश के सुदूर स्थानों पर ले जाना हो तो इसके लिए रेलमार्ग सबसे अच्छा साधन है।
  • इसके विपरीत उच्च मूल्य वाली हल्की तथा नाशवान वस्तुओं का परिवहन वायुयान द्वारा सबसे अच्छा रहता है।
  • तरल तथा गैसीय पदार्थों का परिवहन आजकल पाइप लाइनों द्वारा फायदेमन्द रहता है।

एक सुप्रबन्धित परिवहन प्रणाली में परिवहन की विभिन्न विधाएँ एक-दूसरे के पूरक और सहयोगी होती हैं।

प्रश्न 8.
पाइप लाइन परिवहन के गुण व दोषों का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
पाइप लाइन परिवहन के गुण
पाइप लाइन परिवहन के मुख्य गुण निम्नलिखित हैं

  • पाइप लाइनों को ऊबड़-खाबड़ भू-भागों तथा पानी के नीचे भी बिछाया जा सकता है।
  • पाइप लाइन बिछाने की आरम्भिक लागत अधिक जरूर होती है, लेकिन एक बार बिछ जाने के बाद संचालन और रख-रखाव में लागत कम आती है।
  • पाइप लाइनें पदार्थों की निरन्तर आपूर्ति को सुनिश्चित करती हैं।
  • पाइप लाइनों को बिछाने के लिए भूमि अधिग्रहण नहीं करना पड़ता। इसमें किसी और प्रकार की बर्बादी भी नहीं होती।
  • इससे ऊर्जा का उपयोग भी कम मात्रा में होता है और समय भी नष्ट नहीं होता।
  • पाइप लाइनें परिवहन का सस्ता, तीव्र, सक्षम और पर्यावरण-अनुकूल तरीका हैं।

पाइप लाइन परिवहन के दोष
पाइप लाइन परिवहन के दोष निम्नलिखित हैं

  • एक बार पाइप लाइन बिछा देने के बाद उसकी क्षमता में वृद्धि नहीं की जा सकती, अत: यह परिवहन का लोचदार साधन नहीं है।
  • कई बार पाइप लाइन की सुरक्षा भी नहीं की जा सकती।
  • भूमिगत पाइप लाइन की मरम्मत करना भी कठिन हो जाता है।
  • पाइप लाइन का रिसाव हो जाने की स्थिति में रिसाव-स्थान का पता लगाना कठिन हो जाता है।

प्रश्न 9.
पनामा नहर के महत्त्व का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
पनामा नहर का महत्त्व
पनामा नहर के महत्त्व के प्रमुख बिन्दु निम्नलिखित हैं
(1) पनामा नहर संयुक्त राज्य अमेरिका के हितों का पोषण और संरक्षण अधिक करती है।
(2) इस नहर के बन जाने से उत्तरी व दक्षिणी-अमेरिका के पूर्वी व पश्चिमी तटों के बीच दूरी कम हो गई है।
UP Board Solutions for Class 12 Geography Chapter 8 Transport and Communication 2
(3) इस नहर के कारण यूरोपीय पत्तनों और संयुक्त राज्य अमेरिका के पश्चिमी तट पर स्थित बन्दरगाहों के बीच की दूरी कम हो गई है।

(4) संयुक्त राज्य अमेरिका के लिए इस नहर का सामाजिक महत्त्व है। इसी नहर के द्वारा वह अपने जंगी बेड़ों को अटलाण्टिक महासागर से प्रशान्त महासागर या इसके उलट तुरन्त भेज सकता है।

(5) पश्चिमी द्वीप समूह, जो अमेरिका के लिए सुरक्षात्मक कवच का निर्माण करते हैं, की देख-रेख व वहाँ सैनिक अड्डों की स्थापना इस नहर के कारण आसान हो गई है।

(6) ब्रिटेन को भी पनामा नहर से लाभ हुआ है। उसे न्यूजीलैण्ड, उत्तरी व दक्षिणी अमेरिका के पश्चिमी . तटों तक पहुँचने का छोटा मार्ग मिल गया है।

(7) इस मार्ग द्वारा अटलाण्टिक महासागर से पैट्रोलियम, चाँदी, पारा, सिनकोना, गन्ना, केला, ऊन, मांस, अयस्क, लकड़ी, दुग्धोत्पाद, रबड़ का निर्यात प्रशान्त महासागरीय क्षेत्रों को होता है तथा मशीनें, ताँबा, नाइट्रेट, . इस्पात की वस्तुएँ, टिन, मछली व निर्मित वस्तुएँ प्रशान्त महासागरीय क्षेत्र से निर्यात की जाती हैं।

 

प्रश्न 10.
स्वेज नहर के महत्त्व का वर्णन कीजिए।
उत्तर:
स्वेज नहर का महत्त्व स्वेज नहर के महत्त्व के प्रमुख बिन्दु निम्नलिखित हैं
(1) इस मार्ग के खुल जाने से यूरोप के देशों, पूर्वी अफ्रीका, एशिया व ऑस्ट्रेलिया के बीच मार्ग छोटा हो गया है। इससे यात्रा में लगने वाले समय और पैसे की बचत हुई है। पहले जहाजों को अफ्रीका के दक्षिण से लम्बा चक्कर काटकर आशा-अन्तरीप मार्ग से जाना पड़ता था लेकिन अब भूमध्यसागर से नहर स्वेज होते हुए लाल सागर और फिर अरब सागर में छोटे मार्ग से जल्दी पहुँचा जाता है। उदाहरणत: आशा-अन्तरीप मार्ग की तुलना में स्वेज मार्ग से लन्दन और मुम्बई के बीच 9600 किमी तथा न्यूयॉर्क और अदन के बीच 10,720 किमी की दूरी कम हुई है।
UP Board Solutions for Class 12 Geography Chapter 8 Transport and Communication 3

(2) इस नहर के बनने से यूरोपीय देशों विशेष रूप से ब्रिटेन को बहुत लाभ हुआ। इस जलमार्ग के द्वारा ब्रिटेन अपने सुदूर-पूर्व स्थित उपनिवेशों से सस्ता कच्चा माल मँगाता था तथा उन्हें निर्मित माल निर्यात किया करता था। इसीलिए इस नहर को ‘ब्रिटिश साम्राज्य की स्नायु नाड़ी’ कहा जाता था।

(3) इस नहर से न केवल पश्चिमी देशों को ही लाभ हुआ है, बल्कि पूर्वी संसार को भी इससे व्यापारिक लाभ हुआ है। पूर्वी देश पश्चिमी देशों को इसी नहर मार्ग द्वारा पटसन, चाय, रेशम, चीनी, रबड़, गर्म मसाले, मांस, ऊन, टिन, हैंप इत्यादि का निर्यात करते हैं जबकि पश्चिमी देश पूर्वी अफ्रीका, एशिया व ऑस्ट्रेलिया को मशीनें, दवाइयाँ, रासायनिक उत्पाद तथा कपड़ा इत्यादि भेजते हैं। खाड़ी क्षेत्र में घटने वाले राजनीतिक घटनाक्रम के अनुसार इस मार्ग का प्रयोग घटता-बढ़ता, बन्द होता और खुलता रहता है फिर भी यह निश्चित है कि स्वेज नहर निर्माण के द्वारा भौगोलिक परिवर्तन करके राष्ट्रों के भाग्य बदलने वाला इससे बड़ा अकेला मानवीय उद्यम पिछली शताब्दियों में और कोई नहीं हुआ।

लघु उत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
परिवहन के प्रकार को वर्गीकृत कीजिए।
उत्तर:
UP Board Solutions for Class 12 Geography Chapter 8 Transport and Communication 4

प्रश्न 2.
महामार्ग की विशेषताओं को समझाइए।
उत्तर:
महामार्ग की विशेषताएँ
महामार्ग की निम्नलिखित विशेषताएँ हैं

  • महामार्गों का निर्माण इस तरह किया जाता है ताकि उन पर वाहन निर्बाध गति से दौड़ सकें।
  • इन महामार्गों में यातायात की अलग-अलग लाइन होती है।
  • महामार्ग आने और जाने वाले वाहनों के लिए दो भागों में बँटे होते हैं।
  • पुल और उपरिसेतु यातायात को सुचारु बनाते हैं।

प्रश्न 3.
ट्रांस-साइबेरियन रेलमार्ग के भौगोलिक महत्त्व को समझाइए।
उत्तर:
ट्रांस-साइबेरियन रेलमार्ग का भौगोलिक महत्त्व ट्रांस-साइबेरियन रेलमार्ग का भौगोलिक महत्त्व निम्नवत् है

  • इस मार्ग के खुल जाने से कभी उपेक्षित तथा अत्यन्त पिछड़ा हुआ पूर्वी साइबेरिया, जिसे ‘काला पानी’ कहा जाता था, आज प्राकृतिक सम्पदाओं का खजाना माना जा रहा है।
  • इस मार्ग के कारण ही मध्य एशिया और साइबेरिया के पशु, वन, मिट्टी, खनिज, जल एवं कृषि सम्पत्ति का दोहन सम्भव हो सका है।
  • इस मार्ग पर खाद्यान्नों, कोयला, धातुओं, लकड़ी, लुगदी, समूर, चमड़ा, मक्खन व सूखा दूध इत्यादि का परिवहन पश्चिम की ओर तथा मशीनरी और औद्योगिक उत्पाद पूर्व की तरफ भेजे जाते हैं।

प्रश्न 4.
पार-कैनेडियन रेलमार्ग के भौगोलिक महत्त्व को समझाइए।
उत्तर:
पार-कैनेडियन रेलमार्गका भौगोलिक महत्त्व पार-कैनेडियन रेलमार्ग का भौगोलिक महत्त्व निम्नलिखित है

  • इस रेलमार्ग के कारण ही कनाडा के पूर्वी भागों में उद्योग पनप सके व पश्चिमी भाग में कृषि में प्रगति हुई।
  • प्रेयरी प्रदेशों का गेहूँ इसी मार्ग द्वारा पूर्वी बन्दरगाहों को भेजा जाता है, जहाँ से उसे यूरोपीय बाजार में निर्यात कर दिया जाता है।
  • इसी रेलमार्ग के कारण ही कनाडा में जनसंख्या का सघन बसाव आरम्भ हुआ। कनाडा के अधिकांश बड़े नगर इसी रेलमार्ग के किनारे स्थित हैं।
  • कनाडा के आन्तरिक भागों में सीधा सम्पर्क जोड़ देने के कारण इस रेलमार्ग का प्रशासकीय एवं राजनीतिक महत्त्व है।

प्रश्न 5.
परिवहन तथा संचार में अन्तर को समझाइए।
उत्तर:
UP Board Solutions for Class 12 Geography Chapter 8 Transport and Communication 5

प्रश्न 6.
संसार में रेलमार्गों के विकास में सहायक प्रमुख कारक बताइए।
उत्तर:
संसार में रेलमार्गों के विकास में सहायक कारक

  • समतल भूमि – समतल मैदानों में रेलमार्गों का विकास अधिक सम्भव है। यूरोप और उत्तरी अमेरिका के मैदानों में रेलमार्गों का जाल बिछा हुआ है।
  • सघन जनसंख्या – सघन जनसंख्या के कारण भी अधिक रेलमार्ग बिछाए जाते हैं। उदाहरण—भारत का उत्तरी मैदान।
  • औद्योगीकरण तथा समृद्ध कृषि – उद्योगों के विकास तथा समृद्ध कृषि क्षेत्रों में भी रेलों का विकास होता है। उदाहरण-यूरोप तथा उत्तरी अमेरिका।

प्रश्न 7.
संचार सेवाओं के महत्त्व को स्पष्ट कीजिए।
उत्तर:
संचार सेवाओं का महत्त्व
संचार सेवाओं का निम्नलिखित महत्त्व है

  • आधुनिक समय में संचार के साधनों ने सम्पूर्ण विश्व को एक वैश्विक ग्राम बना दिया है।
  • रेडियो, दूरदर्शन, फैक्स और इण्टरनेट ने इस क्षेत्र में क्रान्ति ला दी है। हम फैक्स/इण्टरनेट से थोड़े-से समय में दूर तक सन्देश भेज सकते हैं।
  • अंकीय सूचना संचार कम्प्यूटर प्रणाली में मिश्रित हो गया है। कम्प्यूटर के द्वारा विश्व के किसी भाग से भी हम सूचना एकत्र कर सकते हैं।
  • आज के समय में इण्टरनेट का इलेक्ट्रॉनिक जाल संचार का सबसे बड़ा साधन है, जिसके द्वारा एक अरब लोग एक साथ जुड़ सकते हैं।

प्रश्न 8.
समुद्री जल यातायात के क्या लाभ हैं? अथवा महासागरीय मार्गों के लाभों को समझाइए।
उत्तर:
समुद्री जल यातायात/महासागरीय मार्गों के लाभ
समुद्री जल यातायात/महासागरीय मार्गों के निम्नलिखित लाभ हैं

  • महासागर सभी महाद्वीपों को एक-दूसरे से मिलाते हैं।
  • खनिज तेल अथवा गैस आदि को ढोने के लिए विकास टैंकरों का उपयोग किया जा सकता है।
  • पत्तनों पर कण्टेनरों के प्रयोग से सामान को उतारना या चढ़ाना आसान है।
  • समुद्री परिवहन द्वारा जिनता सामान एक साथ जलयानों द्वारा ढोया जा सकता है वह किसी अन्य साधन द्वारा सम्भव नहीं है।

प्रश्न 9.
उत्तरी अटलाण्टिक समुद्री मार्ग की विशेषताएँ समझाइए।
उत्तर:
उत्तरी अटलाण्टिक समुद्री मार्ग की विशेषताएँ उत्तरी अटलाण्टिक समुद्री मार्ग की निम्नलिखित विशेषताएँ हैं

  • यह मार्ग औद्योगिक दृष्टि से विकसित विश्व के दो प्रदेशों उत्तर-पूर्वी संयुक्त राज्य अमेरिका और पश्चिमी यूरोप को मिलाता है।
  • विश्व का एक-चौथाई विदेशी व्यापार इस मार्ग द्वारा परिवहित होता है।
  • यूरोप के देश जो कृषि व उद्योग में विकसित हैं वस्त्र, रसायन, मशीनें, उर्वरक आदि संयुक्त राज्य अमेरिका व कनाडा को निर्यात करते हैं।
  • इस मार्ग के दोनों तटों पर पत्तंन और पोताश्रय की उन्नत सुविधाएँ उपलब्ध हैं।

प्रश्न 10.
ट्रांस साइबेरियन रेलमार्ग पर टिप्पणी लिखिए।
उत्तर:
ट्रांस साइबेरियन रेलमार्ग एशिया का सबसे महत्त्वपूर्ण और विश्व का सर्वाधिक लम्बा (9,322 किमी) दोहरे पथ से युक्त विद्युतीकृत पार महाद्वीपीय रेलमार्ग है। रूस का यह प्रमुख रेलमार्ग पश्चिम में सेंट पीटर्सबर्ग से पूर्व में प्रशान्त महासागर तट पर स्थित ब्लाडीवोस्टक तक जाता है। इस मार्ग ने एशियाई प्रदेश को पश्चिमी यूरोपीय बाजारों से जोड़ा है। इस रेलमार्ग को दक्षिण में जोड़ने वाले योजक मार्ग भी हैं।

प्रश्न 11.
राइन जलमार्ग की विशेषताओं को समझाइए।
उत्तर:
राइन जलमार्ग की विशेषताएँ राइन जलमार्ग की प्रमुख विशेषताएँ निम्नलिखित हैं

  • यह नदी समृद्ध कोयला क्षेत्र से गुजरती है, अत: इस नदी का सम्पूर्ण बेसिन एक समृद्ध औद्योगिक क्षेत्र के रूप में विकसित हो चुका है।।
  • इस नदी के व्यापार में कोयले की महत्ता के कारण इसे ‘कोयला नदी’ भी कहा जाता है।
  • यह जलमार्ग स्विट्जरलैण्ड, जर्मनी, फ्रांस, बेल्जियम तथा नीदरलैण्ड के औद्योगिक क्षेत्रों को उत्तरी अटलाण्टिक समुद्री मार्ग से जोड़ता है।
  • यह जलमार्ग यूरोपीय साझा बाजार के व्यापार की धुरी है।

अतिलघ उत्तरीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
परिवहन से आप क्या समझते हैं?
उत्तर:
वस्तुओं और यात्रियों के एक स्थान से दूसरे स्थान पर लाने-ले-जाने को परिवहन’ कहते हैं।

प्रश्न 2.
संचार क्या है?
उत्तर:
उद्गम स्थल से लक्ष्य तक किसी माध्यम के द्वारा सूचनाओं का प्रेषण ही संचार है। टेलीफोन सूचना प्रेषण का एक माध्यम है।

प्रश्न 3.
महामार्ग से आप क्या समझते हैं?
उत्तर:
महामार्ग दूरस्थ स्थानों को जोड़ने वाली पक्की सड़कें होती हैं। इनका निर्माण इस प्रकार किया जाता है कि अबाधित रूप से यातायात का आवागमन हो सके।

प्रश्न 4.
परिवहन जाल क्या है?
उत्तर:
अनेक स्थान जिन्हें परस्पर मार्गों की श्रेणियों द्वारा जोड़ दिए जाने पर जिस प्रारूप का निर्माण होता है, उसे ‘परिवहन जाल’ कहते हैं।

प्रश्न 5.
परिवहन की प्रमुख विधाओं के नाम लिखिए।
उत्तर:
परिवहन की प्रमुख विधाएँ हैं

  • स्थल परिवहन
  • जल परिवहन
  • वायु परिवहन, तथा
  • पाइप लाइन परिवहन।

प्रश्न 6.
परिवहन विधा की सार्थकता किस पर निर्भर करती है?
उत्तर:
परिवहन विधा की सार्थकता परिवहित की जाने वाली वस्तुओं और सेवाओं के प्रकार, परिवहन की लागतों और उपलब्ध विधा पर निर्भर करती है।

प्रश्न 7.
उच्च मूल्य वाली, हल्की तथा नाशवान वस्तुओं का परिवहन किससे सर्वश्रेष्ठ होता है?
उत्तर:
उच्च मूल्य वाली, हल्की तथा नाशवान वस्तुओं का वायुमार्गों द्वारा परिवहन सर्वश्रेष्ठ होता है।

प्रश्न 8.
प्रथम सार्वजनिक रेलमार्ग कब और कहाँ प्रारम्भ हुआ?
उत्तर:
प्रथम सार्वजनिक रेलमार्ग सन् 1825 में उत्तरी इंग्लैण्ड के स्टॉकटन और इर्लिंग्टन स्थानों के मध्य प्रारम्भ हुआ।

प्रश्न 9.
पाइप लाइनों से किसका परिवहन व्यापक रूप से किया जाता है?
उत्तर:
पाइप लाइनों से जल, पेट्रोलियम, प्राकृतिक गैस आदि का परिवहन किया जाता है।

प्रश्न 10.
साइबर स्पेस क्या है?
उत्तर:
साइबर स्पेस विद्युत द्वारा कम्प्यूटरीकृत स्पेस का संसार है। यह वर्ल्ड वाइड वेबसाइट (www) जैसे इण्टरनेट द्वारा आवृत्त है।

प्रश्न 11.
पार साइबेरियन रेलमार्ग के अन्तिम स्टेशनों के नाम बताइए।
उत्तर:
सेंट पीटर्सबर्ग तथा ब्लाडीवोस्टक।

प्रश्न 12.
ओरिएण्ट एक्सप्रेस रेलमार्ग के अन्तिम सिरों के स्टेशनों के नाम बताइए।
उत्तर:
पेरिस तथा इस्तमबूल।।

प्रश्न 13.
पार कनाडियन रेलमार्ग के अन्तिम स्टेशनों के नाम लिखिए।
उत्तर:
बैंकूवर तथा हैलीफैक्स।

प्रश्न 14.
विश्व का सबसे व्यस्त समुद्री मार्ग कौन-सा है?
उत्तर:
उत्तर अटलाण्टिक महासागरीय मार्ग।

प्रश्न 15.
एशिया और यूरोप दोनों महाद्वीपों के लिए वाणिज्य द्वार के रूप में सेवा करने वाली नौगम्य नहर का नाम बताइए।
उत्तर:
स्वेज नहर।

प्रश्न 16.
जर्मनी के सबसे महत्त्वपूर्ण आन्तरिक जलमार्ग का नाम बताइए।
उत्तर:
राइन जलमार्ग।

प्रश्न 17.
स्वेज नहर के प्रत्येक सिरे के समुद्री पत्तनों के नाम बताइए।
उत्तर:
पोर्ट सईद उत्तर में तथा स्वेज पत्तन दक्षिण में स्थित है।

प्रश्न 18.
इण्टरनेट क्या है?
उत्तर:
इण्टरनेट एक ऐसी इलेक्ट्रॉनिक प्रणाली है जिसके द्वारा प्रयोगकर्ता माइक्रो कम्प्यूटर और मोडेम के माध्यम से साइबर स्पेस से जुड़ जाता है और इससे सम्बन्धित.विविध निम्नतम जानकारी प्राप्त कर सकता है।

प्रश्न 19.
कनाडा के प्रमुख रेलमार्ग का नाम बताइए।
उत्तर:
पार कैनेडियन रेलमार्ग। .

प्रश्न 20.
पार महाद्वीपीय रेलमार्ग किसे कहते हैं?
उत्तर:
महाद्वीपों के आर-पार अथवा एक छोर से दूसरे छोर तक बनाए गए रेलमार्गों को ‘पार महाद्वीपीय रेलमार्ग’ कहते हैं।

बहुविकल्पीय प्रश्नोत्तर

प्रश्न 1.
इंग्लैण्ड में स्थित यूरो टनल ग्रुप द्वारा प्रचालित सुरंग मार्ग किन दो शहरों को जोड़ता है
(a) लन्दन-बर्लिन
(b) बर्लिन-पेरिस
(c) पेरिस-लन्दन
(d) बार्सीलोना-बर्लिन।
उत्तर:
(c) पेरिस-लन्दन।

 

प्रश्न 2.
कैनेडियन-पैसेफिक रेलमार्ग स्थित है
(a) यूरोप में
(b) दक्षिण अमेरिका में
(c) एशिया में
(d) उत्तरी अमेरिका में।
उत्तर:
(d) उत्तरी अमेरिका में।

प्रश्न 3.
विश्व का सबसे लम्बा रेलमार्ग कौन-सा है
(a) ट्रांस-साइबेरियन रेलमार्ग
(b) कैनेडियन-पैसेफिक रेलमार्ग
(c) ऑस्ट्रेलियाई अन्तर्महाद्वीपीय रेलमार्ग
(d) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर:
(a) ट्रांस-साइबेरियन रेलमार्ग।

प्रश्न 4.
स्थूल और भारी भरकम सामानों के परिवहन के लिए कौन-सा मार्ग अधिक उपयुक्त रहता है.
(a) जलमार्ग
(b) वायुमार्ग
(c) रेलमार्ग
(d) सड़क मार्ग।
उत्तर:
(a) जलमार्ग।

प्रश्न 5.
संसार का सबसे व्यस्ततम जलमार्ग कौन-सा है
(a) वोल्गा जलमार्ग
(b) मिसीसिपी जलमार्ग
(c) राइन जलमार्ग
(d) सोन जलमार्ग।
उत्तर:
(c) राइन जलमार्ग।

प्रश्न 6.
जर्मनी में महामार्गों को किस नाम से जाना जाता है
(a) मोटर वेज
(b) ऑटोवान
(c) हाइवेज
(d) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर:
(b) ऑटोवान।

प्रश्न 7.
स्वेज नहर जोड़ती है
(a) अटलाण्टिक महासागर और प्रशान्त महासागर को
(b) भूमध्यसागर और लाल सागर को
(c) भूमध्यसागर और कैस्पियन सागर को
(d) काला सागर और लाल सागर को।
उत्तर:
(b) भूमध्यसागर और लाल सागर को।

प्रश्न 8.
पनामा नहर जोड़ती है
(a) भूमध्यसागर और लाल सागर को
(b) भूमध्यसागर और कैस्पियन सागर को
(c) अटलाण्टिक महासागर और प्रशान्त महासागर को
(d) हिन्द महासागर और प्रशान्त महासागर को।
उत्तर:
(c) अटलाण्टिक महासागर और प्रशान्त महासागर को।

प्रश्न 9.
वायु परिवहन का उपयोग किया जाता है
(a) कीमती वस्तुएँ तथा यात्रियों के लिए
(b) लकड़ी के लिए
(c) कम कीमती तथा भारी सामान के लिए
(d) भारी खनिज के लिए।
उत्तर:
(a) कीमती वस्तुएँ तथा यात्रियों के लिए।

प्रश्न 10.
पाइप लाइन ‘बिग इंच’ का सम्बन्ध किस देश से है
(a) जर्मनी
(b) कनाडा
(c) ब्राजील
(d) संयुक्त राज्य अमेरिका।
उत्तर:
(d) संयुक्त राज्य अमेरिका।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *