Category Archives: Couplets

स्वामी विवेकानंद के सुविचार | Swami Vivekananda Quotes in Hindi

स्वामी विवेकानंद के सुविचार | Swami Vivekananda Quotes in Hindi स्वामी विवेकानंद के सुविचार | Swami Vivekananda Quotes in Hindi स्वामी विवेकानंद के विचारों का ही असर है की 12 जनवरी उनकी याद में राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाया जाता है। 1893 में शिकागो में आयोजित धर्म संसद में भारत के अज्ञात भिक्षु ने… Read More »

गौतम बुद्ध के अनमोल विचार | Gautam Buddha Quotes In Hindi

गौतम बुद्ध के अनमोल विचार | Gautam Buddha Quotes In Hindi गौतम बुद्ध के अनमोल विचार | Gautam Buddha Quotes In Hindi हमारा देश भारत को देवो की भूमि कहा गया है यहा पर समय समय अनेक देवी देवताओ, महान पुरुषो, समाज सुधारक, युग प्रवर्तक, धर्म प्रवर्तक जैसे महापुरुषों ने जन्म लिया है और अपने… Read More »

रहीम के दोहे शब्दार्थ सहित | Rahim Ke Dohe in Hindi

रहीम के दोहे शब्दार्थ सहित | Rahim Ke Dohe in Hindi रहीम के दोहे शब्दार्थ सहित | Rahim Ke Dohe in Hindi अब्दुल रहीम खानखाना का जन्म 17 दिसम्बर 1556 को लाहौर में हुआ| रहीमदास के पिता का नाम बैरम खान तथा माता का नाम सुल्ताना बेगम था| बैरम खान की दूसरी पत्नी का नाम सईदा खां था| हम सभी ने अपने… Read More »

कबीर के दोहे | Kabir Ke Dohe in Hindi

कबीर के दोहे | Kabir Ke Dohe in Hindi कबीर के दोहे | Kabir Ke Dohe in Hindi कुछ लोगों का मानना है कि वे जन्म से मुसलमान थे और युवावस्था में स्वामी रामानंद के माध्यम से उन्हें हिन्दू धर्म की बातें मालूम हुईं और रामानंद ने चेताया तो उनके मन में वैराग्य भाव उत्पन्न हो गया… Read More »

तुलसीदास के दोहे | Tulsidas Ji Ke Dohe in hindi

तुलसीदास के दोहे | Tulsidas Ji Ke Dohe in hindi तुलसीदास के दोहे | Tulsidas Ji Ke Dohe in hindi श्रीरामचरितमानस के रचयिता गोस्वामी तुलसीदास जी हिंदी साहित्य के महान कवि थे| तुलसीदास जी के दोहे ज्ञान-सागर के समान हैं| आइये हम इन दोहों को अर्थ सहित पढ़ें और इनसे मिलने वाली सीख को अपने जीवन में उतारें.… Read More »

बिहारीलाल के दोहे | Biharilal Ke Dohe in Hindi

बिहारीलाल के दोहे | Biharilal Ke Dohe in Hindi बिहारीलाल के दोहे | Biharilal Ke Dohe in Hindi Bihari Ke Dohe With Hindi Meaning : बिहारी (बिहारीलाल चौबे) हिंदी के रीति काल के विख्यात महाकवि थे। वह अपनी प्रमुख रचना  सतसई  के नाम से जाने जाते हैं। बिहारी जी का जन्म संवत् 1603 ई. ग्वालियर में हुआ। उनके पिता का… Read More »

रविदास के दोहे | Ravidas Ke Dohe in Hindi

अब कैसे छूटै राम नाम रट लागी। प्रभु जी, तुम चंदन हम पानी, जाकी अंग-अंग बास समानी।। प्रभु जी, तुम घन बन हम मोरा, जैसे चितवन चंद चकोरा। प्रभु जी, तुम दीपक हम बाती, जाकी जोति बरै दिन राती।। प्रभु जी, तुम मोती हम धागा, जैसे सोनहिं मिलत सुहागा। प्रभु जी, तुम स्वामी हम दासा,… Read More »