मध्य एशिया से सम्पर्क और उसका प्रभाव | Contact and its influence with Central Asia

image

मध्य एशिया से सम्पर्क और उसका प्रभाव | Contact and its influence with Central Asia

1. राजनीतिक पहलू

ई पू. 200 के कालावधि में मौर्य साम्राज्य जितना बड़ा किसी अन्य साम्राज्य का साक्ष्य नहीं मिलता, इस दौरान मध्य एशिया और भारत के बीच एक घनिष्ट सम्बन्ध और व्यापक सम्पर्क बना। भारत के पूर्वी और मध्य भागों में और दक्कन में, मौर्य के बाद
शुंग, कण्व और सातवाहन जैसे कई स्थानीय शासक आए। मौर्यों के बाद मध्य एशिया के कई राजवंश उत्तर-पश्चिमी भारत में आए और शासन किए। उनमें से, कुषाण सर्वाधिक प्रसिद्ध हुए।

इण्डो-यूनानी

ई.पू. 200 के आस-पास, आक्रमणों की एक श्रृंखला शुरू हुई। हिन्दू कुश को सबसे पहले पार करने वाले यूनानी थे। जिन्होंने उत्तर अफगानिस्तान के क्षेत्र में ओक्सस नदी के दक्षिण में स्थित बैक्ट्रिया या बहलिका पर शासन किया। एक के बाद एक आक्रमणकारी आते कुछ ने तो एक ही समय में समानान्तर शासन किया। आक्रमणों का एक महत्त्वपूर्ण कारण था सेल्यूकस साम्राज्य की कमजोरी। इस साम्राज्य की स्थापना बैक्ट्रिया और ईरान से सटे हुए पार्थिया नामक इलाके में हुई थी। सीथियन जनजातियों के बढ़ते दबाव के कारण, उत्तरवर्ती यूनानी शासक इस क्षेत्र में सत्ता बनाए रखने में असमर्थ थे।
चीनी दीवार के निर्माण के साथ, सिथियन को चीनी सीमा से वापस धकेल दिया गया था। इसलिए उन्होंने पड़ोसी यूनानियों और पार्थियों की तरफ ध्यान दिया। सिथीयन कबीलों द्वारा धकेले जाने के बाद, बैक्ट्रियन यूनानी, भारत पर आक्रमण के लिए मजबूर हो गए। इस काल में अशोक के जो उत्तराधिकारी थे वे इतने कमजोर हो गए थे कि विदेशी आक्रमणों की इस लहर को रोकने में सक्षम नहीं हुए।
भारत पर सबसे पहले आक्रमण करने वाले यूनानी थे। जिन्हें इण्डो-यूनानी या इण्डो-बैक्ट्रियाई कहा जाता था। ई.पू. दूसरी शताब्दी की शुरुआत में, इण्डो-यूनानी लोगों ने उत्तर-पश्चिमी भारत के बड़े हिस्से पर कब्जा कर लिया, जो सिकन्दर की विजय से भी बहुत बड़ा क्षेत्र था। कहा जाता है कि वे अयोध्या और पाटलिपुत्र तक आ गए थे। हालाँकि, यूनानी भारत में एकजुट होकर शासन स्थापित करने में विफल रहे। दो यूनानी राजवंशों ने एक साथ समानान्तर काल में उत्तर-पश्चिमी भारत पर शासन किया। सबसे प्रसिद्ध भारत-यूनानी शासक मेनाण्डर (ई.पू. 165-45) थे, जिन्हें मिलिण्डा के रूप में भी जाना जाता था। पंजाब में उनकी राजधानी सकल (आधुनिक सियालकोट) मैं थी, और उन्होंने गंगा-यमुना दोआब पर आक्रमण किया। उनके अधीन सकल और पथुरा सहित कई महानगर थे। वे अपने शासन में विभिन्न प्रकार के सिक्कों के प्रसार के लिए जाने जाते हैं।
नागसेना, जिन्हें नागार्जुन के रूप में जाना जाता है; के प्रयास से वे बौद्ध धर्म में परिवर्तित हो गए। मेनाण्डर ने नागसेना से बौद्ध धर्म से जुड़े कई सारे सवाल पूछे। इन सवालों और नागसेना के उत्तरों को एक पुस्तक मिलिन्दपान्हो या मिलिन्द के प्रश्न
के रूप में दर्ज किया गया है। यूनानियों द्वारा जारी किए गए सिक्कों की बड़ी संख्या के कारण भारत के इतिहास में इण्डो-यूनानी शासन महत्त्वपूर्ण है। भारत में इण्डो-यूनानी शासक ऐसे पहले शासक थे जिनके सिक्कों के आधार पर यह कहा जा सकता है कि इसे किस शासक द्वारा जारी किया गया। पुराने पंच-चिह्नित सिक्कों को इस तरह किसी राजवंश से जोड़कर
देख पाना सम्भव नहीं है। भारत में सोने के सिक्के जारी करने वाले सबसे पहले शासक इण्डो-यूनानी ही थे, कुषाणों के समय में इन सिक्कों की संख्या में वृद्धि हुई। भारत के उत्तर-पश्चिमी सीमा में यूनानी शासन ने हेलेनिस्टिक कला की शुरुआत की, किन्तु इसे विशुद्ध यूनानी नहीं माना जा सकता। यह सिकन्दर की मृत्यु के बाद, गैर-यूनानी लोगों के साथ यूनानी सम्पर्क के परिणाम से विकसित हुई कला थी। गान्धार कला इसका सबसे अच्छा उदाहरण था।

शक

यूनानियों के बाद शक आए। शक या सिथियन ने बैक्ट्रिया और भारत दोनों में यूनानी शक्तियों को नष्ट कर दिया और यूनानियों की तुलना में भारत के बहुत बड़े हिस्से पर कब्जा किया। भारत और अफगानिस्तान के विभिन्न हिस्सों में शकों के शक्ति केन्द्र की पाँच शाखाएँ थीं। शकों की एक शाखा अफगानिस्तान में थी; दूसरी पंजाब में जिसकी राजधानी तक्षशिला थी; और तीसरी मथुरा में, जहाँ उन्होंने दो शताब्दियों तक शासन किया; चौथी शाखा ने पश्चिमी भारत पर अपना कब्जा जमाया, जहाँ शकों ने चौदहवीं शताब्दी तक शासन किया; पाँचवीं शाखा ने ऊपरी दक्कन में अपनी शक्ति स्थापित की।
शकों को भारत के शासकों और लोगों से किसी भी प्रतिरोध का सामना नहीं करना पड़ा। ई.पू. 57-58 के आस-पास हम उज्जैन के राजा के बारे में सुनते हैं, जो प्रभावी ढंग से शकों के खिलाफ लड़े और अपने शासनकाल में उन्हें बाहर खदेड़ दिया। उन्होंने खुद को विक्रमादित्य कहा और शकों पर उनकी विजय के बाद, ई.पू. 57 के युग को, उन्हीं के नाम से विक्रम संवत माना जाता है। इसके बाद, विक्रमादित्य एक प्रतिष्ठित उपाधि बन गया। जिसने भी सफलता हासिल की और पराक्रम दिखाया उसने यह उपाधि ग्रहण की, जैसे महान शक्ति प्रदर्शन के लिए रोमन सम्राट सीज़र की उपाधि अपना लेते थे। इस परम्परा का
परिणाम यह हुआ कि भारतीय इतिहास में चौदह विक्रमादित्य हुए। गुप्त वंश के चन्द्रगुप्त द्वितीय उनमें सबसे प्रसिद्ध थे। यह उपाधि बारहवीं शताब्दी तक भारतीय राजाओं के लिए शोभायमान रही, यह विशेषकर भारत के पश्चिमी भाग और पश्चिमी डेक्कन में प्रचलित थी।
हालाँकि शकों ने देश के विभिन्न हिस्सों में अपना शासन स्थापित किया। उनमे से पश्चिमी भारत में शासन करने वाले शक लगभग चार शताब्दियों तक राज करते रहे। वे गुजरात के समुद्र व्यापार से काफी लाभान्वित हुए और कई चाँदी के सिक्के जारी किए। भारत में सबसे प्रसिद्ध शक शासक रुद्रदमन प्रथम (सन् 130-50) थे। उन्होंने न केवल सिन्ध पर शासन किया, बल्कि गुजरात, कोंकण, नर्मदा घाटी, मालवा और काठियावाड़ के एक महत्त्वपूर्ण हिस्सों पर भी शासन किया। वे काठियावाड़ के सूखे हुए क्षेत्र में सुदर्शन झील, जो मौर्यों के समय से सिंचाई के लिए लम्बे समय तक इस्तेमाल होती थी, उसकी भी मरम्मत करवाई। रुद्रदमन संस्कृत में काफी रुचि रखते थे। हालाँकि उनके पूर्वज मध्य एशिया के थे, उन्होंने पहला लम्बा अभिलेख शुद्ध संस्कृत में जारी किया था। इसके पहले के सभी प्राचीन अभिलेख प्राकृत में थे, जिसे अशोक ने राज्य की भाषा बनाई थी।

पार्थियन

उत्तर-पश्चिम भारत में शकों के वर्चस्व के बाद पार्थियन आए, कई प्राचीन भारतीय संस्कृत ग्रन्थों में, दोनों लोगों का उल्लेख एक साथ शक-पहलवों के रूप में किया गया है। वास्तव में, दोनों ने एक ही समय में भारत पर शासन किया था। मूलत: पार्थियन या पहलव ईरान में रहते थे, जहाँ से वे भारत आए थे। उन्होंने पहली शताब्दी में उत्तरी-पश्चिमी भारत के एक छोटे से हिस्से पर कब्जा किया जो यूनानी और शकों की तुलना में बहुत छोटा था पार्थियनों के सबसे प्रसिद्ध राजा गोण्डोफरनेस थे, जिनके काल में सन्त थॉमस ईसाई धर्म के प्रसार के लिए भारत आए थे। समय के साथ, पार्थियन भी, शकों की तरह, भारतीय राजनीति और
समाज के अभिन्न अंग बन गए।

कुषाण

पार्थियन के बाद कुषाण आए, इन्हें योची या टोचेरियन कहा जाता था। टोचेरियन, सीथियन की तरह ही माने जाते थे। योची कबीला कुल पाँच सम्प्रदायों में बंटा हुआ था कुषाण उनमे से एक थे। ये चीन के पड़ोस में उत्तर-मध्य एशिया के मैदान में रहने वाले खानाबदोश लोग थे। कुषाणों ने सबसे पहले बैक्ट्रिया या उत्तर अफगानिस्तान पर कब्जा किया और वहाँ से शकों को विस्थापित कर दिया। धीरे-धीरे वे काबुल घाटी की तरफ बढ़े और हिन्दू कुश को पार कर गान्धार पर कब्जा कर लिया और इन क्षेत्रों में यूनानी और पार्थियन के शासन को छिन्न-भिन्न कर दिया। अन्ततः उन्होंने सिन्धु नदी के निचले हिस्से और गंगा घाटी के
अधिकतर हिस्सों में अपना शासन स्थापित कर लिया। उनका साम्राज्य ओक्सस से गंगा तक, मध्य एशिया के खोरासन से बिहार के पाटलिपुत्र तक फैला था। मध्य एशिया के पूर्व सोवियत गणराज्य का बड़ा हिस्सा और ईरान अफगानिस्तान और लगभग पूरा पाकिस्तान और उत्तर भारत को उन्होंने अपने अधीन बनाया। इसी कारण, भारत में कुषाण साम्राज्य को कभी-कभी मध्य एशिया का साम्राज्य कहा जाता है। इस साम्राज्य ने भिन्न लोगों और संस्कृतियों के आपसी सम्पर्क और समागम
के लिए एक अनूठा अवसर प्रदान किया। इस प्रक्रिया ने एक नए प्रकार की संस्कृति को जन्म दिया, जो आज के 9 देशों में फैली हुई है।
कुषाण के दो उत्तरवर्ती राजवंश थे। पहले राजवंश की स्थापना कडफिज समूह के प्रमुख द्वारा की गई और इसका शासन सन् 50 से लेकर अट्ठाईस वर्षों तक चला। इस दौरान दो राजाओं ने शासन किया। पहले राजा कडफिज़ प्रथम ने हिन्दू कुश के दक्षिण में सिक्के जारी किए, इन्होंने रोमन सिक्कों का नकल करते हुए ताम्बे के सिक्के बनवाए। दूसरे राजा कडफिज़ द्वितीय ने बड़ी संख्या में सोने के सिक्के जारी किए और सिन्धु के पूरब में अपने राज्य का विस्तार किया। कडफिज़ के बाद कनिष्क राजवंश आया। इन राजाओं ने ऊपरी भारत और निचली
सिन्धु घाटी में कुषाणों की शक्ति को बढ़ाया और फैलाया। प्राचीन कुषाण राजाओं ने गुप्त काल से भी अधिक शुद्धता वाले सोने के कई सिक्के जारी किए। हालाँकि, कुषाणों के सोने के सिक्के मुख्य रूप से सिन्धु के पश्चिम में पाए जाते हैं। जबकि उनके अभिलेख केवल उत्तर-पश्चिम भारत और सिन्ध में ही नहीं, बल्कि मथुरा, श्रावस्ती, कौशाम्बी और वाराणसी में भी पाए जाते हैं। इस तरह, गंगा-यमुना दोआब के अलावा उन्होंने मध्य गंगा घाटी के बड़े हिस्सों में भी अपना अधिकार स्थापित किया था। मथुरा से प्राप्त कुषाण सिक्के, अभिलेख, निर्माण और मूर्तिकला के टुकड़े दर्शाते हैं कि यह भारत में उनकी दूसरी राजधानी थी। पहली राजधानी पुरुषपुर या पेशावर थी, जहाँ कनिष्क ने एक मठ और विशाल स्तूप बनवाया था। इस स्तूप ने विदेशी यात्रियों को आश्चर्यचकित कर दिया। कनिष्क सबसे प्रसिद्ध कुषाण शासक थे। यद्यपि भारतीय सीमा के बाहर, उन्हें चीन से हार का सामना करना पड़ा। वे इतिहास में दो कारणों से जाने जाते हैं। सबसे पहले, उन्होंने सन् 78 में एक संवत की शुरुआत की, जिसे अब शक संवत के रूप में जाना जाता है और जो भारत सरकार द्वारा भी प्रयोग में लाया जाता है। दूसरा, कनिष्क ने पूरी
तरह से बौद्ध धर्म को संरक्षण प्रदान किया। उहोंने कश्मीर में बौद्ध धर्म की एक सभा बुलाई जहाँ बौद्ध धर्म की महायान शाखा का निर्माण किया गया। कनिष्क भी कला और  वास्तु कला के महान संरक्षक थे। कनिष्क के उत्तराधिकारी उत्तर- 230 के आस-पास तक शासन करते रहे और उनमें से कुछ ने वासुदेव जैसे शुद्ध भारतीय नाम भी अपनाए।
ईरानी मूल के ससैनियन ने तीसरी शताब्दी में अफगानिस्तान और सिन्धु के पश्चिम में स्थित क्षेत्रों से कुषाण साम्राज्य को उखाड़ फेंका। हालाँकि, भारत में कुषाण राजशाही सौ वर्षों तक बनी रही। काबुल घाटी, कपिसा, बैक्ट्रिया, खोरेज्म और सोग्दियाना (मध्य एशिया में बोखारा एवं समरकन्द के निकट) में कुषाण रजवाड़ों का अस्तित्व तीसरी-चौथी शताब्दी तक था। इन क्षेत्रों में कई कुषाण सिक्के, अभिलेख और मिट्टी की मूर्तियां पाई गई हैं। खास तौर से ओक्सस पर जो अराल सागर के दक्षिण में स्थित है। खोरेज्म के टोप्रक- कला में तीसरी-चौथी शताब्दी के बड़े कुषाण महल पाए गए हैं। इसमें आर्मेइक लिपि में और खोरेज्म भाषा में लिखे अभिलेख और दस्तावेजों से युक्त प्रशासनिक संग्रह भी हैं।

इण्डो-ससैनियन

हालाँकि, तीसरी शताब्दी के मध्य तक, ससैनियनो ने निचले सिन्धु क्षेत्र पर कब्जा कर लिया। शुरुआत में उन्होंने इस क्षेत्र को हिन्दू कहा, यह धर्म के सन्दर्भ में नहीं कहा गया था, सिन्धु के लोगों के अर्थ में कहा गया था। सन् 262 के एक ससैनियन अभिलेख में हिन्दुस्तान शब्द का प्रयोग हुआ है। मुगल और आधुनिक समय में भारत के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला हिन्दुस्तान शब्द पहली बार तीसरी शताब्दी में इस्तेमाल किया गया। ससैनियन, जिन्हें इण्डो-ससैनियन भी कहा जाता है, ने भारत में एक शताब्दी से भी कम समय तक शासन किया, लेकिन उन्होंने बड़ी संख्या में सिक्के जारी कर भारतीय अर्थव्यवस्था में योगदान दिया।

2. सांस्कृतिक परिणाम

संरचनाएँ और बर्तन

शक-कुषाण काल में भवन निर्माण की संरचना में विशेष प्रगति हुई। उत्तर भारत के विभिन्न स्थानों पर खुदाई में निर्माण की कई परतें मिली हैं, कहीं-कहीं ये आधे दर्जन से भी अधिक हैं। इनमें हमें फर्श बनाने के लिए पकी ईंटो का प्रयोग मिलता है और छत बनाने के लिए खपरों या मिट्टी की पकी हुई टाइलों का प्रयोग मिलता है। हालाँकि, बाहर से टाइलों का उपयोग नहीं किया गया। इस अवधि में ईंट की दीवारों और कुओं का निर्माण भी किया गया। इस काल में विशिष्ट लाल बर्तन मिलते हैं, जो सादा और पॉलिश किए हुए होते थे व सामान्य और अच्छी बनावट की भी होती थी। इन विशिष्ट बर्तनों में छिड़काव करने वाले
टोंटीदार और फुहारेवाले बर्तन भी हैं। ये हमें इसी काल में मध्य एशिया की कुषाण काल की परतों में पाए जाने वाले सूक्ष्म लाल बर्तनों के ही जैसे दिखते हैं। मिट्टी के लाल बर्तन बनाने की तकनीक मध्य एशिया में व्यापक रूप से प्रचलित थी और कुषाण साम्राज्य के सांस्कृतिक क्षेत्र की सीमाओं पर स्थित फरगाना जैसी जगहों में भी पाई जाती थी।

घुड़सवार सेना

शक और कुषाण ने भारतीय संस्कृति में नए सन्दर्भ जोड़े और उन्हें बेहद समृद्ध किया। वे पूरी तरह से भारत में बस गए और यहाँ की संस्कृति को अपना लिया। चूंकि उनकी अपनी कोई लिपि या लिखित भाषा और कोई संगठित धर्म नहीं था इसलिए उन्होंने भारतीय संस्कृति के इन घटकों को अपना लिया और भारतीय समाज के अभिन्न अंग बन गए। उन्होंने बेहतर घुड़सवार सेना की शुरुआत की और बड़े पैमाने पर घोड़ों का इस्तेमाल किया। उन्होंने लगाम और काठी के प्रयोग को लोकप्रिय बनाया, जो दूसरी और तीसरी शताब्दी की बौद्ध मूर्तियों में दिखाई देते हैं। शक और कुषाण उत्कृष्ट घुड़सवार थे।
अफगानिस्तान के बेग्राम में हुई खोज से प्राप्त कुषाण काल की घुड़सवारों के मिट्टी की मूर्तियों से घुड़सवारी के लिए उनके जुनून का पता चलता है। इन विदेशी घुड़सवारों में से कुछ बख्तरबन्द हथियारों से पूरी तरह लैश थे और भाले एवं बरछी से युद्ध करते थे। मुमकिन है कि उन्होंने रस्सी से बने कुछ रकाबों का भी इस्तेमाल किया, जो उनकी घुड़सवारी में सहायक हुआ और आवागमन भी आसान हो गया। शकों और कुषाणों ने पगड़ी, अंगरखा (कुर्ती), पतलून और भारी लम्बी कोट की शुरुआत की। आज भी अफगानी और पंजाबी लोग पगड़ी हैं और कुर्ते पहनते हैं जो लम्बे कोट का ही बदला हुआ रूप है। मध्य एशियाई लोगों ने टोपी, हेलमेट और जूते भी लाए, जो योद्धाओं द्वारा उपयोग किए जाते थे। इन्हीं के बदौलत उन्होंने ईरान, अफगानिस्तान, पाकिस्तान और भारत में अपने विरोधियों का सफाया किया। बाद में, जब यह सैन्य वेशभूषा और कौशल देश भर में फैला, तो यहाँ के राजाओं ने विजय पाने के लिए इसका अच्छा इश्तेमाल किया।

व्यापार और कृषि

केन्द्रीय एशियाई लोगों के आने से मध्य एशिया और भारत के बीच घनिष्ट सम्बन्ध स्थापित हुए। भारत को मध्य एशिया के अल्ताई पहाड़ों से सोने का एक बड़ा खजाना मिला। भारत को रोमन साम्राज्य के साथ व्यापार के माध्यम से भी सोना मिला होगा। कुषाणों ने रेशम के उस मार्ग (सिल्क रूट) को नियन्त्रित कर लिया जो चीन से शुरू होकर उसके साम्राज्य मध्य एशिया एवं अफगानिस्तान से ईरान तक जाता था। साथ ही यह पूर्वी भूमध्य क्षेत्र में रोमन साम्राज्य का हिस्सा रहे पश्चिमी एशिया तक जाता था। यह मार्ग कुषाणों के लिए पर्याप्त आय का स्रोत था और उन्होंने व्यापारियों पर लगाए गए करों की सहायता से एक विशाल और समृद्ध साम्राज्य का निर्माण किया। यह महत्त्वपूर्ण है कि कुषाण भारत के पहले शासक थे, जिन्होंने व्यापक पैमाने पर सोने के सिक्के जारी किए। कुषाणों ने कृषि को भी बढ़ावा दिया। पाकिस्तान, अफगानिस्तान और पश्चिमी मध्य एशिया में बड़े पैमाने पर सिंचाई के प्रारम्भिक पुरातात्विक निशान, कुषाण काल में मिलते हैं।

राजनीति

मध्य एशियाई विजेताओं ने कई छोटे-छोटे राज्यों के राजाओं पर अपना शासन थोप दिया। इससे एक सामन्ती व्यवस्था का विकास हुआ। कुषाण राजाओं ने महाराजाधिराज (राजाओं का राजा) जैसी उपाधि धारण की जिससे यह संकेत मिलता है कि वे कई छोटे-छोटे राजाओं के राजा थे और उनसे वे कर वसूला करते थे। शकों और कुषाणों ने इस अवधारणा को मजबूत किया कि राजा ईश्वर का दूत होता है। अशोक ने खुद को ‘देव प्रिय’ कहा, लेकिन कुषाण राजाओं ने खुद को ईश्वर का पुत्र या देव पुत्र कहा। कुषाणों ने यह खिताब चीनी लोगों से लिया, जो अपने राजा को स्वर्ग का पुत्र कहते थे। भारत में सम्भवत: ऐसा प्रयोग राजशाही को मान्यता और वैधता दिलाने के उद्देश्य से हुई होगी। ब्राह्मणविधि के निर्माता मनु ने लोगों को राजा का सम्मान करने को कहा, भले ही वह बच्चा ही क्यों न हो। क्योंकि वह इनसान के रूप में एक महान देवता ही होता है।
कुषाण ने शकों द्वारा अपनाई गई क्षत्रशाही शासन को मजबूत किया। साम्राज्य कई शाषकों में विभाजित कर दिया गया और प्रत्येक के एक शासक बनाए गए। वंशानुगत आधार पर एक इलाके पर दो राजाओं के एक साथ शासन की अनोखी प्रथा भी शुरू हुई, जिसमे एक समय में एक साथ दो शासक राज करते थे। अर्थात्, पिता एवं पुत्र, एक साथ मिलकर, एक ही राज्य में शासन करने लगे। ऐसा लगता है कि इन शासकों ने केन्द्रीयकरण को कम किया होगा। यूनानियों ने सैन्य शासन की भी शरुआत की, इन शासकों को स्वतेजोस कहा जाता था। वे इसके लिए सेनानियों की नियुक्ति करते थे। जनता पर नए राजाओं का वर्चस्व बनाने और प्रभाव जमाने के लिए सैन्य शासकों को नियुक्त किया जाता था।

भारतीय समाज में नए तत्त्व

अन्तत: यूनानी, शक, पार्थियन और कुषाण सबने भारत में अपनी पहचान खो दी। समय के साथ पूरी तरह से वे भारतीय हो गए। चूँकि इनमें से ज्यादातर आक्रमणकारी थे, इसलिए वे भारतीय समाज में एक क्षत्रिय योद्धा के रूप में उसी वर्ण में शामिल हो गए। ब्राह्मण समाज ने उनके इस शामिल होने को अलग ढंग से व्याख्यायित किया है। ब्राह्मण विधि निर्माता मनु ने कहा कि शक और पार्थियन क्षत्रिय थे, जो अपने कर्तव्यों से भटक गए और उनका स्तर गिर गया। दूसरे शब्दों में, उन्हें द्वितीय स्तर का क्षत्रिय माना जाता है। प्राचीन भारतीय इतिहास के अन्य किसी काल में, इतनी बड़ी संख्या में भारतीय समाज में विदेशियों को
समाहित नहीं किया गया, जैसा कि उत्तरवर्ती मौर्य काल के बाद किया गया था।

धार्मिक विकास

मध्य एशिया के कुछ शासकों और अन्य लोगों ने वैष्णव सम्प्रदाय को अपना लिया। जिसका अर्थ है कि वे उस विष्णु के उपासक हो गए जो जगत का पालक है और सबकी रक्षा करता है। ई.पू. दूसरी शताब्दी के मध्यकाल में यूनानी राजदूत हेलियोडोरस ने मध्य प्रदेश में विदिशा के पास बेसनगर में वासुदेव के सम्मान में एक स्तम्भ स्थापित किया। कुछ अन्य शासकों ने बौद्ध धर्म अपना लिया। प्रसिद्ध यूनानी शासक मिनाण्डर बौद्ध बन गए। बौद्ध गुरु नागसेना, जिन्हें नागार्जुन भी कहा जाता था, के साथ हुए उनके प्रश्न और उत्तर मौर्य काल के बाद के बौद्धिक इतिहास के लिए बेहतरीन स्रोत है। कुषाण शासकों ने शिव और बुद्ध दोनों की पूजा की और इन दोनों की छवियाँ कुषाण सिक्कों पर उकेरी गईं। कई कुषाण शासक विष्णु के उपासक थे। कुषाण शासक वासुदेव के नाम से ही ऐसा विदित होता है, जो कृष्ण का पर्यायवाची शब्द है, अर्थात् विष्णु के अवतार।

बौद्ध धर्म के महायान सम्प्रदाय का उदय

व्यापार और कारीगरी की गतिविधियों में आकस्मिक वृद्धि एवं मध्य एशिया से बड़ी संख्या में लोगों के आगमन के कारण उत्तर मौर्य काल में धर्मों में काफी बदलाव हुए। इससे बौद्ध धर्म विशेष रूप से प्रभावित हुआ। बौद्ध भिक्षु और भिक्षुणियों ने नगर में बढ़ते व्यापारियों और कारीगरों से नकद धन वसूला। आन्ध्र प्रदेश के नागार्जुनकोण्डा क्षेत्रों में सिक्कों की बड़ी संख्या पाई गई हैं। इसके अलावा, बौद्धों ने उन विदेशियों का भी स्वागत किया जो माँसाहारी थे। इससे सादा जीवन व्यतीत करने वाले भिक्षुओं और भिक्षुणियों का जीवन रोज-बरोज आरामदायक होता गया। वे सोने-चाँदी लेने लगे, माँसाहार शुरू कर दिया और भव्य वस्त्र पहनने लगे। धार्मिक अनुशासन इतना कमजोर हो गया कि कुछ लोग धार्मिक महायान कहा गया, अर्थात् महान वाहन। शुद्धाचार के रूप में बौद्ध धर्म और उससे जुड़े प्रतीकों की पूजा की जाती थीं। ईसा युग के शुरुआत से इन प्रतीकों की जगह बुद्ध की प्रतिमा मार्ग अर्थात् संघ को छोड़कर गृहस्थ जीवन में लौट गए। बौद्ध धर्म के इस नए रूप को ने ले ली। बौद्ध धर्म में मूर्ति पूजा को देखते हुए ब्राह्मणों के समुदाय ने भी मूर्ति पूजा के चलन को खूब बढ़ाया। महायान के उदय के बाद, बौद्ध धर्म का पुराना प्रचलन हीनयान सम्प्रदाय के नाम से जाना जाने लगा जिसका अर्थ था निम्न वाहन।
सौभाग्य से, कनिष्क महायान सम्प्रदाय के सबसे बड़े संरक्षक बने। उन्होंने कश्मीर में एक परिषद् बुलाई, जिसके सदस्यों ने 3,00,000 शब्दों के तीन पिटकों, अर्थात् बौद्ध साहित्य का संग्रह किया। कनिष्क ने लाल ताम्बे की पट्टियों पर संग्रह की टीकाओं को उत्कीर्ण करवाया और उन्हें पत्थर की सन्दूकों में संकलित किया और उसके ऊपर स्तूप बनवा दिया। यदि यह प्राचीन कहानी सच है तो ताम्बे के अभिलेख सहित इन स्तूपों की खोज बौद्ध ग्रन्थों पर नई रोशनी डालेगी। कनिष्क ने बुद्ध के स्मारक के रूप में और भी कई स्तूप बनवाए।

गान्धार और मथुरा की कला शैली

बाहरी राजाओं ने भारतीय कला और साहित्य के प्रति उत्साह दिखाया और वे उसके संरक्षक बन गए। यह उत्साह वैसा ही था जैसा किसी नए धर्म अपनाने वाले का धर्म के प्रति होता है। कुषाण साम्राज्य ने विभिन्न देशों के प्रशिक्षित कारीगरों और शिल्पकारों को एकत्रित किया। इससे मध्य एशियाई, गान्धार और मथुरा जैसे कई कला विधाओं की शुरुआत हुई। मध्य एशिया से प्राप्त मूर्ति शिल्प के टुकड़ों में, बौद्ध धर्म से प्रभावित भारतीय और स्थानीय दोनों, तत्त्वों का मिश्रण दिखाई देता है। भारतीय कारीगर, खासकर भारत की उत्तर-पश्चिम सीमा में, मध्य एशियाई, यूनानी और रोमनों के साथ सम्पर्क में आए। इससे कला के एक नए रूप का जन्म हुआ, जिसमें बुद्ध प्रतिमा यूनानी-रोमन शैली में निर्मित की गई और बुद्ध प्रतिमा के बाल भी यूनानी-रोमन शैली के बनाए गए।
गान्धार कला का प्रभाव मथुरा में भी फैला, जो मुख्य रूप से स्थानीय कला का केन्द्र था। मथुरा में खूबसूरत बुद्ध प्रतिमा बनाई गई, लेकिन यह कनिष्क की भी मूर्ति के रूप में जानी जाती है, जिसके नीचे कनिष्क का नाम उत्कीर्ण है। यहाँ वर्धमान महावीर की भी कई पाषाण मूर्तियाँ बनाई गईं। मथुरा बेशक कृष्ण के जन्म स्थान और उनके प्रारम्भिक जीवन स्थल के रूप में ख्यात है, किन्तु यहाँ गुप्त काल की पूर्ववर्ती मूर्तियों और अभिलेखों में कृष्ण नहीं हैं। मथुरा की कला विधा का विकास इसा युग के शुरुआत में हुआ और लाल बलुई पत्थर से बनी इसकी मूर्तियाँ मथुरा के बाहर भी पाई जाती हैं। भारत की कुषाण मूर्तिकला का सबसे बड़ा संग्रह इस समय मथुरा संग्रहालय में है।
इसी दौरान, विन्ध्य के दक्षिण में कई स्थानों पर खूबसूरत कलाएँ निर्मित हुई। महाराष्ट्र में चट्टानों से अद्भुत बौद्ध गुफाओं का निर्माण किया गया। आन्ध्र प्रदेश के नागार्जुनकोण्डा और अमरावती बौद्ध कला के महान केन्द्र बने यहाँ बुद्ध से जुड़ी कथाओं को अनगिनत चट्टानों में चित्रित किया गया है। प्राचीन बौद्ध धर्म से जुड़े सबसे पुराने पट्टचित्र बोधगया, साँची और भरहुत में पाए जाते हैं। ये ई.पू. दूसरी शताब्दी से सम्बन्धित हैं। जबकि मूर्तिकला का और विकास ईसा के युग की शुरुआती शताब्दी में हुआ।

भाषा, साहित्य और शिक्षा

कुषाण इस तथ्य से वाकिफ थे कि लोग अलग-अलग राज्यों में विभिन्न लिपियों एवं भाषाओं का इस्तेमाल करते हैं। इसलिए उन्होंने अपने सिक्के और अभिलेख यूनानी, खरोष्ठी और ब्राह्मी लिपि में जारी किए। इसी तरह, उन्होंने यूनानी, प्राकृत एवं संस्कृत प्रभावित प्राकृत भाषाओं का भी उपयोग किया। उनके शासन के अन्तिम दौर में भी शुद्ध संस्कृत का ही चलन था। इसलिए शासकों ने आधिकारिक तौर पर तीन लिपियों और चार भाषाओं को माना। कुषाण सिक्के और अभिलेख विभिन्न लिपियों और भाषाओं के सह-अस्तित्व को दर्शाते हैं। कुषाण काल के लोगों की संवाद-पद्धति भी उनकी शिक्षा का द्योतक है। यह भी महत्त्वपूर्ण बात है, कि मौर्य और सातवाहन ने बेशक प्राकृत को संरक्षण दिया, किन्तु कुछ मध्य एशियाई राजाओं ने संस्कृत को संरक्षण और बढ़ावा दिया। काव्यशैली का प्राचीनतम उदाहरण सन् 150 ईस्वी के काठियावाड़ में रुद्रदमन के जूनागढ़ अभिलेख में पाया जाता है। उस समय से, अभिलेखों को शुद्ध संस्कृत में लिखा जाने लगा था। यद्यपि प्राकृत में
अभिलेखों की रचना चौथी शताब्दी और उसके बाद तक भी जारी रही।
प्रतीत होता है कि अश्वघोष जैसे महान लेखकों को कुषाणों का संरक्षण प्राप्त था। अश्वघोष ने बुद्धचरित की रचना की, जो बुद्ध की जीवनी पर आधारित है, और सौन्दरानन्द नामक काव्य की भी रचना की, जो संस्कृत काव्य का एक उत्कृष्ट उदाहरण है।
बौद्ध धर्म के महायान सम्प्रदाय के विकास ने कई अवदानों (जीवन इतिहास और शिक्षा) की रचना का मार्ग प्रशस्त किया। माना जाता है कि इनमें से बौद्ध प्रभावित संस्कृत में रचित अधिकांश ग्रन्थों की रचना लोगों में बौद्ध धर्म के महायान सम्प्रदाय की शिक्षाओं को पहुंचाने के उद्देश्य से हुई। महावस्तु और दिव्यावदान इस शैली की महत्त्वपूर्ण पुस्तकें हैं। भारतीय रंगशाला पर भी यूनान का प्रभाव है। बनारस से 160 मील दक्षिण में स्थित, रामगढ़ पहाड़ी में बहिरंग, अन्तरंग, दो रंगशालाएँ हैं। अभिनेत्रियों के लिए एक विश्राम-गृह भी पाया गया है। रंगशाला की उत्पत्ति यूनानियों द्वारा मानी जाती है। कुछ विद्वान इस
प्रकार के यूनानी प्रभाव पर सन्देह भी करते हैं, लेकिन यूनानी प्रभाव से भारतीय रंगशाला में परदे का प्रचलन शुरू हुआ। चूँकि यह परदा यूनान से आया था, इसलिए इसे यवनिका कहा जाता था। यवनिका शब्द यवन शब्द से निर्मित है और प्राचीन भारतीयों के लिए यह आयोनियन शब्द का संस्कृत रूप है। प्रारम्भ में, यवन शब्द यूनानियों के लिए इस्तेमाल होता था, लेकिन बाद में इस शब्द का प्रयोग बाहर से आए सभी लोगों के लिए होने लगा। हालाँकि, रंगशाला के विकास में भारत के योगदान को नकारा नहीं जा सकता। ई.पू. 150 के आस-पास पतंजलि बलि-बन्धन या कंस-हत्या जैसे दृश्यों की प्रस्तुति का उल्लेख करते हैं। इससे भी अधिक महत्त्वपूर्ण है, कि भरत मुनि का नाट्यशास्त्र आलंकार-शास्त्र और नाट्य-शास्त्र पर विशिष्ट रचना है और भारत में पूर्ण विकसित नाटक के प्रवेश का सूचक भी है।
वात्सयायन का कामसूत्र धर्म से इतर किसी साहित्य का सबसे अच्छा उदाहरण है। तीसरी शताब्दी में रचित यह कामशास्त्र और रतिशास्त्र पर केन्द्रित सबसे प्राचीन ग्रन्थ है। यह हमें विकसित हो रहे नगरों में रहने वाले पुरुष या नगर के नगरक के बारे में जानकारी देता है।

विज्ञान और तकनीक

उत्तर-मौर्य काल में, यूनान के सम्पर्क से भारतीय खगोल विज्ञान और ज्योतिष शास्त्र भी विकसित हुआ। संस्कृत ग्रन्थों में ग्रहों के संचार सम्बन्धी कई यूनानी शब्द दिखाई देते हैं। भारतीय ज्योतिष यूनानी विचारों से प्रभावित था; यूनानी शब्द होरोस्कोपसे होरशास्त्र आया, जिसे संस्कृत में ज्योतिष कहते हैं। यूनानी सिक्के भली-भाँति निर्मित और मुद्रित होते थे, पंच-चिह्नित सिक्कों की अपेक्षा ये काफी बेहतर होते थे। यूनानी शब्द ड्रचमा ही ड्रामा के रूप में जाना गया। यूनानी शासकों ने ब्राह्मी लिपि का इस्तेमाल किया और उनके सिक्कों पर कुछ भारतीय चीजों को भी दर्शाया गया। यूनानियों ने कुत्तों, मवेशियों, मसालों और हाथी दाँत के टुकड़ों का बाहर निर्यात भी किया। किन्तु, यह स्पष्ट नहीं है कि उन्होंने भारत के शिल्प का ज्ञान हासिल किया या नहीं। हालाँकि, भारतीयों ने चिकित्सा, वनस्पति विज्ञान और रसायन विज्ञान में यूनानियों से कुछ नहीं लिया। चरक और सुश्रुत ने इन तीनों विषयों पर काम किया। चरकसंहिता में कई पौधों और जड़ी-बूटियों के नाम शामिल हैं, जिनसे दवाइयाँ तैयार की जाती थीं। पौधों को कूटने और मिलाने की प्रकिया के वर्णन से हमें प्राचीन भारत में रसायन शास्त्र के विकसित ज्ञान की अन्तर्दृष्टि का पता चलता है। प्राचीन भारतीय चिकित्सा बीमारियों के इलाज के लिए मुख्यतः पौधों पर निर्भर थी। जिसके लिए संस्कृत का शब्द औषधि है, फलस्वरूप, दवा बनने के बाद इसे औषधि के रूप में जाना जाता है।
प्रौद्योगिकी क्षेत्र में भी, मध्य एशियाई लोगों के सम्पर्क से भारतीयों को काफी लाभ हुआ। कनिष्क को पतलून और लम्बे जूते पहने हुए दिखाया जाता है। रकाब का आगमन भी कुषाण काल में ही हुआ। सम्भवत: इसी काल में चमड़े के जूते भी बनने शुरू हुए। भारत में कुषाण काल के ताम्बे के सिक्के, रोमन सिक्कों की नकल लगते थे। इसी तरह, रोम के सोने के सिक्कों की तर्ज पर, कुषाणों ने भी भारत में सोने के सिक्के बनाए। भारत और उनके समकालीन रोमन राजाओं के बीच दूतों के आदान-प्रदान का भी पता चलता है। सन् 27-28 में रोमन सम्राट अगस्टस के दरबार में और सन् 110-20 में रोमन सम्राट ट्राजन के दरबार में भारत से दूत भेजा गया था। इस तरह, प्राचीन भारत के साथ रोम के सम्पर्क से प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में नए तरीकों की शुरुआत हुई। इस दौर में शीशा से काम करने के तरीकों पर भी बाहरी प्रभाव दिखाई पड़ता है। प्राचीन भारत में शीशा बनाने के काम में जितनी प्रगति इस दौर में हुई; अन्य किसी काल में नहीं हुई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *