विज्ञान क्या है | Vigyan Kya Hai in Hindi

विज्ञान क्या है | Vigyan Kya Hai in Hindi

विज्ञान
पुल्लिंग
  1. जानकारी (जैसे—ज्ञान विज्ञान)।
  2. दक्षता, योग्यता।

विज्ञान – विज्ञान का अर्थ है विशेष ज्ञान। मनुष्य ने अपनी आवश्यकताओं के लिए जो नए-नए आविष्कार किए हैं, वे सब विज्ञान की ही देन हैं। आज का युग विज्ञान का युग है। विज्ञान के अनगिनत आविष्कारों के कारण मनुष्य का जीवन पहले से अधिक आरामदायक हो गया है। दुनिया विज्ञान से ही विकसित हुई हैं।

अन्य शब्दों में Vigyan की परिभाषा

विज्ञान शब्द का संधि विच्छेद वि + ज्ञान है, जिसका अर्थ है विशेष ज्ञान। विज्ञान को अङ्ग्रेज़ी में Science कहते हैं; Science शब्द की व्युत्पत्ति लैटिन भाषा के शब्द scire से हुई है जिसका अर्थ है ‘जानना‘ (to know)।

विज्ञान वह व्यवस्थित ज्ञान या विद्या है जो विचार, अवलोकन, अध्ययन और प्रयोग से मिलती है, जो किसी अध्ययन के विषय की प्रकृति या सिद्धान्तों को जानने के लिये किये जाते हैं। विज्ञान शब्द का प्रयोग ज्ञान की ऐसी शाखा के लिये भी करते हैं, जो तथ्य, सिद्धान्त और तरीकों को प्रयोग और परिकल्पना से स्थापित और व्यवस्थित करती है। इस प्रकार हम कह सकते हैं कि प्रकृति के क्रमबद्ध एवं सुव्यवस्थित ज्ञान को विज्ञान कहते है। ऐसा कहा जाता है कि विज्ञान के ‘ज्ञान-भण्डार’ के बजाय वैज्ञानिक विधि विज्ञान की असली कसौटी है। या प्रकृति में उपस्थित वस्तुओं के क्रमबध्द अध्ययन से ज्ञान प्राप्त करने को ही विज्ञान कहते हैं। या किसी भी वस्तु के बारे में विस्तृत ज्ञान को ही विज्ञान कहते हैंं।

किसी भी वस्तु के बारे में जानकारी ग्रहण करना और जानकारी को सही तरीकों से लागू करना एवं किसी भी वस्तु का सही अवलोकन करना एवं उसका विश्लेषण करना ही विज्ञान है |

प्रयोगों द्वारा सिद्ध क्रमबद्ध ज्ञान को भी विज्ञान कहते है।

प्राकृतिक विज्ञान

प्राकृतिक विज्ञान प्रकृति और भौतिक दुनिया का व्यवस्थित ज्ञान होता है, या फ़िर इसका अध्ययन करने वाली इसकी कोई शाखा। असल में विज्ञान शब्द का उपयोग लगभग हमेशा प्राकृतिक विज्ञानों के लिये ही किया जाता है। इसकी तीन मुख्य शाखाएँ हैं : भौतिकी, रसायन शास्त्र और जीव विज्ञान, समाजशास्त्र, इत्यादि शामिल हैं।

A. भौतिक विज्ञान(Physical Science in hindi):-

प्राकृतिक विज्ञान की इस शाखा में प्रकृति की समस्त निर्जीव वस्तुओं का अध्ययन किया जाता है।

इसे निम्न 4 भागो में बाँटा गया है-

(1) भौतिकी विज्ञान(Physics science in hindi ):-

  • भौतिकी शास्त्र या भौतिकी प्रकृति विज्ञान की एक बहत विशाल शाखा है।
  • यह ऊर्जा विषयक विज्ञान है और इसमें ऊर्जा के रूपांतरण तथा उसके द्रव सम्बन्धों की विवेचना की जाती है |
  • स्थान, काल, गति, द्रव्य, विद्युत, प्रकाश, ऊष्मा तथा ध्वनि आदि अनेक विषयों का अध्ययन इसमें किया जाता है ।
  • भौतिकी का मुख्य सिद्धांत ऊर्जा संरक्षण का नियम है।

(2) रसायन विज्ञान (Chemistry science in hindi):-

  • रसायन विज्ञान में पदार्थों के संघटन, संरचना, गुणों और रासायनिक प्रतिक्रिया के दौरान इनमें हुए परिवर्तनों का अध्ययन किया जाता हैं।
  • पदार्थों का संघटन परमाणु या उप परमाण्विक कणों जैसे इलैक्ट्रॉन, प्रोटॉन और न्यूट्रॉन से हुआ है।
  • रसायन विज्ञान को केन्द्रीय विज्ञान भी कहा जाता है क्योंकि यह दूसरे विज्ञान जैसे खगोलिकी, भूविज्ञान, भौतिकी और जीवविज्ञान को जोड़ता है।

(3) खगोलिकी विज्ञान (Astronomy science in hindi):-

  • खगोलिकी विज्ञान में ब्रह्माण्ड में होने वाली घटनाओं का अवलोकन, विश्लेषण तथा उसकी व्याख्या की जाती हैं।
  • ब्रह्माण्ड में अब तक लगभग 19 अरब आकाश गंगा के होने का अनुमान है और प्रत्येक आकाश गंगा में लगभग 10 अरब तारे हैं।

(4) गणित (Mathematics in hindi) :-

  • गणित ऐसी विद्याओं का समूह है जो संख्याओं, मात्राओं, परिणामों, रूप और उनके आपसी रिश्तों,
    गुण, स्वभाव, इत्यादि का अध्ययन करती हैं।
  • गणित की कई शाखायें हैं : अंकगणित, रेखागणित, त्रिकोंमिति, सांख्यकी, बीजगणित,कलन आदि ।
  • गणित में अभ्यस्त व्यक्ति को गणितज्ञ कहते है।

(5) भूगर्भिकी विज्ञान (Geology in hindi) :-

  • पृथ्वी से संबंधित ज्ञान ही भूविज्ञान कहलाता है ।
  • इसमें पृथ्वी की संरचना और उसका निर्माण करने वाली शैलों का अध्ययन किया जाता है |
  • इसके अंतर्गत पृथ्वी संबंधी अनेकानेक विषय आ जाते हैं, जैसे – खनिज शास्त्र, तलछट विज्ञान, खनन आदि।

(B) जीव विज्ञान (Biology in Hindi) :-

  • जीव विज्ञान में जीवों की संरचना, कार्यों, विकास, पहचान, वितरण एवं उनके वर्गीकरण के बारे में पढ़ते हैं |
  • Biology शब्द का प्रयोग सबसे पहले लैमार्क और ट्रविरेनस वैज्ञानिकों ने किया था |
  • जिन वस्तुओं की उत्पति किसी विशेष अकृत्रिम जातीय प्रक्रिया के फलस्वरूप होती है, जीव कहलाती हैं ।
  • जीवों में पोषण, श्वसन, संवेदनशीलता, प्रजनन आदि मौलिक प्रकियाएँ होती हैं।

(1) वनस्पति विज्ञान (Botany Science In Hindi) :-

  • वनस्पति विज्ञान में पादपों से सम्बंधित क्रियाओं का अध्ययन किया जाता हैं |
  • वनस्पति धरती पर जीवन के मूलभूत अंश हैं । पादपों से ऑक्सीजन, भोजन, ईधन, औषधियाँ इत्यादि मिलती हैं।

(2) प्राणी विज्ञान (Zoology In Hindi):-

  • जीवविज्ञान की इस शाखा में जंतुओं और उनके जीवन, शरीर, विकास और वर्गीकरण से संबंधित अध्ययन किया जाता है।
  • लिनियस ने “दि सिस्टम ओफ नेचर” (1735) नामक पुस्तक में जंतुओं के नामकरण का वर्णन किया था।

(3) चिकित्सा विज्ञान (Medical Science In Hindi):-

  • चिकित्सा विज्ञान का सम्बन्ध मानव शरीर को नीरोग रखने, रोग हो जाने पर रोग से मुक्त करने अथवा उसका इलाज करने तथा आयु बढ़ाने से है ।
  • यूनानी आयुर्वेद के जन्मदाता हिप्पोक्रेटीज थे।

Vigyan Ke Janak

Galileo Galilei (गैलीलियो गैलिली) को विज्ञान का जनक कहा जाता है। जिनका जन्म 15 फरवरी 1564 में हुआ था। वो एक इटालियन Astronomer, महान गणितज्ञ और फिलोस्फर थे, उन्होंने विज्ञान के जगत में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। उनकी मृत्यु 8 जनवरी 1642 में हुई थी।

  1. रसायन विज्ञान के जनक:एंटोनी लेवोज़ियर
  2. वनस्पति विज्ञान का जनक: ग्रीक विद्वान थियोफ़्रेस्ट्स
  3. जीव विज्ञान के जनक: अरस्तू
  4. फिजिक्स के जनक(पिता): यह शीर्षक किसी व्यक्ति को नहीं दिया गया है. गैलीलियो गैलीली, सर आइजैक न्यूटन और अल्बर्ट आइंस्टीन सभी को भौतिकी का पिता कहा गया है।
  5. जीवाणु विज्ञान के जनक: डच वैज्ञानिक एण्टनी वॉन ल्यूवोनहूक
  6. चिकित्सा शास्त्र का जनक: हिप्पोक्रेट्स

विज्ञान के फायदे – Advantages of Science in Hindi

  • आरामदायक जिंदगी : विज्ञान ने आज हमारे जीवन को काफी आरामदायक बना दिया है. इसके कई आविष्कार ऐसे हैं जो हमे 24 घंटे आरामदायक ज़िन्दगी जीने में मदद करते हैं. गर्मी और  ठन्डे के मौसम में भी A.C की मदद से हम घर पर आरामदायक जिंदगी जीते हैं.
  • यातायात के साधन: आज हमे कहीं भी जाने में कम से कम समय लगता है. सफर करने के लिए बाइक, कार, रेलगाड़ी और सबसे तेज़ फ्लाइट भी उपलब्ध हैं.
  • कंप्यूटर: कंप्यूटर क्या है ये तो आप बहुत अच्छे से  जानते होंगे. हमारे बहुत सारे कामों को इसकी मदद से हम बहुत ही  और बहुत तेज़ी से कर  लेते हैं भले ही वो गणित का सवाल हल करना ही या खाता से जुड़ा काम या फिर पढाई के लिए ही इसका इस्तेमाल करना हो. इसमें अनेक तरह के काम हम बहुत आसानी से कर लेते हैं.
  • सोशल कनेक्टिविटी: इस ने हमारी दुनिया को काफी छोटा बना दिया है. पहले दूर रहने वाले रिश्तेदारों से हम चिट्ठी लिख कर ही बात करते थे वो भी एक चिट्ठी पहुँचने में महीनों लग जाते हैं. लेकिन आज फेसबुक, व्हाट्सएप्प, इंस्टाग्राम की मदद से हम सात समुन्द्र पर रिश्तेदार से भी ऑनलाइन वीडियो चाट से बात कर सकते हैं.
  • आधुनिक इलाज साधन: आज हमारे आसपास कई अस्पताल हैं जहाँ जाकर बिमारियों का इलाज़ करते हैं.  दुर्घटना के बुरे चोटों को भी मेडिकल साइंस ठीक करने में capable होते हैं. डॉक्टरों ने आज दूसरे शहर में रहते होते भी रोबोटिक हाथों का इस्तेमाल कर के सफलता से कई ऑपरेशन किया हैं.

विज्ञान के हानि 

  • मनुष्य ने प्रौद्योगिकी का दुरुपयोग किया था और विनाशकारी उद्देश्य में उपयोग किया था।
  • आदमी इसका इस्तेमाल करके गैरकानूनी काम कर रहा है
  • नई तकनीक जैसे मोबाइल, आई-पॉड आदि बच्चों पर बुरा असर डाल रही हैं।
  • आतंकवादी अपने विनाशकारी काम के लिए आधुनिक तकनीक का उपयोग कर रहे हैं
  • परमाणु ऊर्जा और परमाणु बम के विकास के कारण त्वचा रोग आदि जैसे कई हानिकारक रोग पैदा होते हैं.
  • मोबाइल फोन के कंपन के कारण हृदय रोग, मस्तिष्क रोग होता है.
  • आधुनिक तकनीक ने न केवल मनुष्य को प्रभावित किया है बल्कि यह परमाणु ऊर्जा के कारण पौधों और प्राणियों को भी प्रभावित करता है।
  • आधुनिक तकनीक के विकास के कारण प्राकृतिक सुंदरता कम हो रही है।

महत्वपूर्ण तथ्य

  • नोबल पुरस्कार प्राप्त भारतीय वैज्ञानिक C.V. रमन को प्रकाश के प्रकीर्णन पर कार्य के लिए 1930 में भौतिकी का नोबल पुरस्कार मिला था।
  • हरगोविंद खुराना को चिकित्सा में नोबेल पुरस्कार मिला था।
  • सुब्रहमन्यम चन्द्रशेखर को 1983 को विलियम ए. फाउलर के साथ संयुक्त रूप से भौतिकी का नोबेल पुरस्कार मिला था।
  • वेंकटस्वरमन रामकृष्णन को इजरायल की अदा योनोथ व अमेरिका के थामस स्टीज के साथ 2009 में रसायन विज्ञान का नोबल पुरस्कार मिला था।
  • 22 अक्टूबर 2008 को चंद्रयान-1 भेजा गया। जनवरी 2014 में भारतीय क्रायोजेनिक इंजन के उपयोग से GSLV-D 5 का प्रेक्षपण किया गया।
  • 24 सितम्बर 2014 को मंगलयान भेजा गया।
  • 29 सितम्बर 2015 को अन्तरिक्ष वैद्यशाला स्थापित की गई।
  • 16 दिसम्बर 2015 को PSLVC-29 से 23 विदेशी उपग्रहों का प्रेक्षपण किया गया।
  • 15 फरवरी 2017 को PSLVC-29 से 104 उपग्रहों का प्रेक्षपण किया गया।
  • सुश्रुत ने 26वीं शताब्दी से पहले एक रोगी की कटी हुई नाक ठीक की थी इसलिए इन्हें प्लास्टिक सर्जरी का जनक कहा गया है।
  • सत्येन्द्रनाथ बोस और आइन्स्टीन ने मिलकर बोस – आइन्स्टीन – सांख्यिकी की खोज की।
    भौतिक शास्त्र में दो प्रकार के अणु माने जाते है, बोसॉन और फर्मियान ।
    इनमें से बोसॉन सत्येन्द्रनाथ बोस के नाम पर है।
  • पदार्थ की पांचवी अवस्था का नाम बोस आइन्सटीन कंडनसेट ( B.E.C. ) रखा गया।

भारतीय अन्तरिक्ष अनुसन्धान संगठन (ISRO)

  • स्थापना – 15 अगस्त 1969 में मुख्यालय – बेंगलूरु कर्नाटका में
  • 1962 में इसरो के लिए भारतीय राष्ट्रीय इसरो Sro समिति ( इनकोस्पार) का गठन किया गया।
  • जिसके सभापति डॉ विक्रम साराभाई थे। भारत का पहला कृत्रिम उपग्रह 1975 में प्रक्षेपित किया गया।
  • 1980 में भारतीय निर्मित पहला उपग्रह रोहिणी का प्रक्षेपण किया गया।

Note –

मोबाइल, इंटरनेट, ईमेल्स, मोबाइल पर 3जी और इंटरनेट के माध्यम से फेसबुक, ट्विटर ने तो वाकई मनुष्य की जिंदगी को बदलकर ही रख दिया है। जितनी जल्दी वह सोच सकता है लगभग उतनी ही देर में जिस व्यक्ति को चाहे मैसेज भेज सकता है, उससे बातें कर सकता है। चाहे वह दुनिया के किसी भी कोने में क्यों न हो।

यातायात के साधनों से आज यात्रा करना अधिक सुविधाजनक हो गया है। आज महीनों की यात्रा दिनों में तथा दिनों की यात्रा चंद घंटों में पूरी हो जाती है। इतने द्रुतगति की ट्रेनें, हवाई जहाज यातायात के रूप में काम में लाए जा रहे हैं। दिन-ब-दिन इनकी गति और उपलब्धता में और सुधार हो रहा है।

चिकित्सा के क्षेत्र में भी विज्ञान ने हमारे लिए बहुत सुविधाएं जुटाई हैं। आज कई असाध्य बीमारियों का इलाज मामूली गोलियों से हो जाता है। कैंसर और एड्सस जैसे बीमारियों के लिए डॉक्टर्स और चिकित्साविशेषज्ञ लगातार प्रयासरत हैं।

The Complete Educational Website

Leave a Reply

Your email address will not be published.